हैदराबाद : भारतीय स्मार्टफोन मार्केट में बड़ा जुआं खेलते हुए चीनी स्मार्टफोन निर्माता कंपनी वनप्लस ने सोमवार को घोषणा करते हुए कहा कि वह हैदराबाद में हाल ही में खोली गई इकाई को अगले तीन सालों में दुनिया का सबसे बड़ा रिसर्च एंड डेवलपमेंट (आर एंड डी) सेंटर के रूप में विकसित करने के लिए काम कर रही है।

कंपनी ने एक बयान में कहा कि यह इकाई वनप्लस उत्पादों में ना सिर्फ आर्टीफीशियल इंटेलीजेंस (एआई) और मशीन लर्निग (एमएल) के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगी बल्कि नवाचार भी संचालित करेगी जो कंपनी के भारतीय कर्मियों को ध्यान में रखकर बनाए गए हैं।

यह भी पढ़ें :

ब्रित्जो करेगी 100 करोड़ रुपये का निवेश, स्मार्ट फीचर फोन के साथ उतरेगी बाजार में

वनप्लस के संस्थापक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) पीटे लाऊ ने कहा, "हमारी योजना हैदराबाद में नए आर एंड डी सेंटर को तीन सालों में दुनिया का सबसे बड़ा सेंटर बनाने की है। हमारी योजना अपने आर एंड डी प्रयासों पर बड़े स्तर पर दोबारा ध्यान केंद्रित करने तथा वैश्विक उत्पादों, विशेषकर एएल और एमएल पर आधारित सॉफ्टरवेयर के नवाचारों को चलाने की है।"

कंपनी ने कहा कि वह शहर की कुशल प्रतिभाओं का भी लाभ उठाएगी। हैदराबाद भारत के सबसे बड़े आईटी केंद्रों में से एक है। वनप्लस के भारतीय बाजार को अपने घरेलू बाजार के तौर पर अपनाने के रोडमैप के कारण आर एंड डी सेंटर महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा।

कंपनी ने कहा, "वनप्लस भारत में दीर्घकालिक वृद्धि हासिल करने के लिए प्रतिबद्ध है और नए आर एंड डी केंद्र के संचालन की घोषणा के साथ वनप्लस को 'मेक इन इंडिया' रणनीति को और गहराई से अपनाने की जरूरत है।"