नई दिल्ली : ज्वेलरी ब्रांड तनिष्क ने हाल ही में 'क्रॉफ्ट्स ऑफ इंडिया' का आयोजन किया जो कि वर्षो पुराने 'चूड़ी वाला' कॉन्सेप्ट द्वारा प्रेरित है। इसका उद्देश्य पारंपरिक 'हाट' के लुक एवं फील को दोबारा उत्पन्न करना है, जहां हर कोई आये और एक-दूसरे से मिल सके।

कंपनी ने एक बयान में कहा कि पारंपरिक हाटों की एक सबसे बड़ी प्रमुख खूबी यह थी कि महिलाएं चूड़ियों की खरीदारी करती थीं। इसमें परफेक्ट कलर अथवा डिजाइन को चुनने का रोमांच नजर आता था, जो उनकी अलग-अलग आउटफिट्स के साथ सबसे अच्छी तरह से मेल खाए और महिलाएं इनकी एकसाथ मिलकर खरीदारी करती थीं।

'क्रॉफ्ट्स ऑफ इंडिया' इवेंट ग्राहकों को पुरानी परंपराओं की ओर लेकर जाने का एक तरीका है और साथ ही यह उन्हें पुराने दिनों की याद दिलाता है।

यह भी पढ़ें: सोने-चांदी के आभूषणों को को टक्कर दे रही है फैशन जूलरी,  जानें कहां सजता है बाजार

तनिष्क के रिटेल एवं मार्केटिंग के सीनियर वाइस प्रेसिडेंट संदीप कुल्हाली ने कहा, "हम निरंतर हमारे ग्राहकों को ऐसे गहनें उपलब्ध कराने का प्रयास करते हैं, जो उनकी अनूठी संवेदनशीलता के साथ मेल खाए और उसी के अनुसार हम कलेक्शन तैयार करते हैं।

कारीगर वर्कशॉप एक भागीदारीपूर्ण अनुभव के माध्यम से डिजाइन के प्रति तनिष्क की प्रतिबद्धता को बयां करने का हमारा तरीका है। हम एक ऐसे इवेंट का निर्माण करना चाहते थे, जो हमारे ग्राहकों को उस कड़ी मेहनत और कारीगरी का अनुभव प्राप्त करने में सक्षम बनाने में मदद करेगा, जिसकी झलक उनके द्वारा पहने जाने वाले हर आभूषण में मिलती है।"