मुंबई : सऊदी अरब में कच्चा तेल उत्पादन संयंत्रों पर हमले के बाद तेल की आपूर्ति बाधित होने से आगामी एक पखवाड़े में भारत में पेट्रोल और डीजल के दाम में पांच से छह रुपये प्रति लीटर का इजाफा हो सकता है। ऐसा विशेषज्ञों का अनुमान है।

कोटक की हालिया एक रिपोर्ट के अनुसार, अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल के दाम में उछाल आने के कारण भारत की तेल विपणन कंपनियां अगामी पखवाड़े में डीजल और गैसोलीन के दाम में पांच रुपये से छह रुपये प्रति लीटर की वृद्धि कर सकती हैं।

सऊदी अरब के तेल संयंत्रों पर हमले के बाद सोमवार को तेल का दाम तकरीबन 20 फीसदी की वृद्धि के साथ 71 डॉलर प्रति बैरल के ऊपर चला गया।

“हमले के चलते रोजाना 57 लाख बैरल तेल का उत्पादन बाधित हुआ है।”
“हमले के चलते रोजाना 57 लाख बैरल तेल का उत्पादन बाधित हुआ है।”

तेल उत्पादक कंपनी सऊदी अरामको ने एक बयान में कहा, "हमले के चलते रोजाना 57 लाख बैरल तेल का उत्पादन बाधित हुआ है।"

विशेषज्ञों ने बताया कि दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी तेल उत्पादक कंपनी अरामको पर हमले के कारण तेल के दाम में अगले कुछ दिनों के दौरान तेजी बनी रहेगी।

उधर, अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने एक ट्वीट के जरिए कहा, "हमले से सऊदी अरब से तेल की आपूर्ति बाधित की गई है। इस कारण से हमारा मानना है कि हम दोषी को जानते हैं, लेकिन हम किंगडम की ओर से सुनना चाहते हैं कि वे किसे हमले का जिम्मेदार मानते हैं और हम किन शर्तो के तहत इस पर कार्रवाई करेंगे।"

किंगडम के आंतरिक मामलों के मंत्री ने कहा कि शनिवार को आरामको के दो प्रमुख तेल संयंत्रों पर हमला करने का दावा यमन के हौती विद्रोहियों ने किया है।