सिर्फ 10 साल के फिल्मी करियर में बेमिसाल शोहरत और स्टारडम जुटाने वाली स्मिता पाटिल इंडस्ट्री में कुछ इस तरह अपने पैर जामए थे कि बड़े-बड़े सितारे भी उनसे डरने लगे थे। 17 अक्टूबर 1955 में पुणे में जन्मी स्मिता पाटिल के करियर की शुरूआत 1970 में दूरदर्शन के लिए बतौर एंकर के रूप में हुई थी।

1974 में मनोरंजन की दुनिया में एट्री कर चुकी स्मिता पाटिल ने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा। उनकी दमदार एक्टिंग के कारण उन्हें हिन्दी के अलावा मराठी फिल्मों में भी मौके मिलने लगे और बहुत कम समय में स्मिता पाटिल फिल्म इंडस्ट्री के जाने-माने कलाकारों में शामिल हो गईं।

सिर्फ 10 साल के करियर में 80 से ज्यादा फिल्में कर चुकी स्मिता पाटिल की अधिकतर फिल्में सुपरहिट रहीं। फिल्म इंडस्ट्री में एंट्री के चार साल यानी 1977 में उन्हें उनकी फिल्म 'भूमिका' और 1980 में फिल्म 'च्रक' के लिए राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार से नवाजा गया। तथा 1985 में उन्हें पद्मश्री पुरस्कार भी मिला।

फिल्म मिर्च मसाला में स्मिता पाटिल
फिल्म मिर्च मसाला में स्मिता पाटिल

राज बब्बर के साथ लिवइन रिलेशन्स

स्मिता पाटिल का अभिनय जितना दमदार था उतनी ही दिलचस्प उनकी निजी जिन्दगी रही। स्मिता पाटिल शादी-शुदा राज बब्बर के साथ लिव इन रिलेशन्स में थी और जब यह खबर सार्वजनिक हुई तो उनकी जमकर आलोचना हुई। हालांकि स्मिता के लिए राज बब्बर अपनी पत्नी और बच्चों को छोड़ दिया था। सालों तक लिवइन रिलेशन में रहने के बाद स्मिता और राज बब्बर ने शादी कर ली।

फिल्म नमक हलाल में अमिताभ बच्चन के साथ स्मिता पाटिल
फिल्म नमक हलाल में अमिताभ बच्चन के साथ स्मिता पाटिल

28 नवंबर 1986 को स्मिता ने प्रतीक बब्बर को जन्म दिया। उसके बाद वह अस्पताल से घर लौट गई। बताया जाता है कि स्मिता इंफेक्शन का शिकार हुई थी और उसके बाद लगातार उनकी तबीयत बिगड़ती गई। स्मिता को पुन: अस्पताल में भर्ती कराया गया, लेकिन उनकी हालत में कोई सुधार नहीं हुआ और एक के बाद एक शरीर के पार्ट्स काम करना बंद कर दिए। इससे सिर्फ 31 साल की उम्र में स्मिता का 13 दिसंबर 1986 को निधन हो गया।

बॉलीवुड के वेटरन एक्ट्रेस शबाना आजमी के साथ स्मिता पाटिल 
बॉलीवुड के वेटरन एक्ट्रेस शबाना आजमी के साथ स्मिता पाटिल 

मौत के बाद दुल्हन की तरह सजाई गई स्मिता...

स्मिता पाटिल के निधन के बाद उनके पार्थिव शरीर को दुल्हन की तरह सजाया गया। स्मिता पाटिल के मेकअप आर्टिस्ट दीपक सांवत के मुताबिक एक दिन जब वह राजकुमार का मेकअप लेटाकर करते देख स्मिता ने उनसे कहा था कि जब भी उनकी (स्मिता) मौत होगी तो उन्हें भी इसी तरह दुल्हन की तरह सजाए। दीपक सावंत ने ऐसा करने से यह कहते हुए मना कर दिया था कि उनके लिए ऐसा करना किसी मुर्दे का मेकअप करने जैसा होगा। उन्हें क्या पता था कि यह शब्द सच होंगे और उन्हें ही आखिरी बार स्मिता को सुहागन के रूप में मेकअप कर सजाना होगा।