हैदराबाद : हिन्दी सिनेमा जगत के महान अभिनेताओं में से एक ओम पुरी का आज जन्मदिन है। उन्होंने बॉलीवुड से लेकर हॉलीवुड तक अपनी अलग पहचान बनाई थी। अपने दमदार अभनिय से ओमपुरी ने लगभग चार दशक तक दर्शको को अपना दीवाना बनाया। लेकिन कम ही लोगों को पता होगा कि वह अभिनेता नहीं बल्किन रेलवे में ड्राइवर बनना चाहते थे। उनके जन्मदिवस के मौके पर जानते हैं उनसे जुड़ी हुई बातें.......

-18 अक्टूबर 1950 को पटियाला में जन्मे ओम पुरी का पूरा नाम ओम राजेश पुरी था। पंजाबी परिवार में जन्मे ओम पुरी के पिता भारतीय रेल्वे और आर्मी में काम करते थे। ओम पुरी का बचपन बड़े कष्टों के साथ बीता था। 6 जनवरी 2017 में 66 वर्ष की उम्र में उनका निधन हो गया था ।

- ओम पुरी के घर की माली हालत इतनी खराब थी कि वो कोयला बीनकर अपना पेट भरते थे। परिवार की जरूरतों को पूरा करने के लिए उन्होंने सात साल की उम्र में एक ढाबे पर भी काम किया। यहां वो बर्तन धोने का काम करते थे। कुछ दिनों बाद ही मालिक ने उन पर चोरी का इल्जाम लगाया और नौकरी से निकाल दिया।

अभिनेता ओम पुरी (फाइल फोटो)
अभिनेता ओम पुरी (फाइल फोटो)

- कहा जाता है कि ओम पुरी को ट्रेन से बड़ा लगाव था । वह जिस घर में रहते थे उसके पीछे एक रेलवे यार्ड था। रात के समय ओमपुरी घर से भागकर ट्रेन में सोने चले जाते थे। । इसलिए वो बड़े होकर ट्रेन ड्राइवर बनना चाहते थे। कुछ समय बाद ओम पुरी पंजाब के पटियाला में अपनी नानी के घर पर चले आए।

- ओमपुरी ने ननिहाल में ही अपनी प्रारंभिक पढ़ाई पूरी की। इसी दौरान उनका रुझान अभिनय की तरफ हुआ। वह नाटकों में हिस्सा लेने लगे। ओम पुरी कॉलेज में पढ़ाई के साथ एक वकील के यहां मुंशी की नौकरी भी करते थे। एक बार नाटक में हिस्सा लेने के कारण वह वकील के यहां काम पर नहीं गए। इससे वकील ने नाराज होकर उन्हें हटा दिया।

-बताया जाता है कि जब इस बात की खबर कॉलेज के प्रिंसीपल को हुई तो उन्होंने ओम पुरी को केमिस्ट्री लैब में सहायक की नौकरी दे दी। जिससे वह नाटकों में हिस्सा आसानी से लेने लगे। एक बार नाटकों में हिस्सा लेने के दौरान उनकी मुलाकात हरपाल और नीना तिवाना से हुई। जिनके सहयोग से वह पंजाब कला मंच नामक नाट्य संस्था से जुड़ गए।

अभिनेता नसिरुद्दीन के साथ ओम पुरी (फाइल फोटो)
अभिनेता नसिरुद्दीन के साथ ओम पुरी (फाइल फोटो)

- ओम पुरी और नसीरूद्दीन शाह नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा में बैचमेट थे। दोनों की दोस्ती 40 साल से अधिक समय तक रही। नसीर ने कई बार ओमपुरी की आर्थिक रूप से मदद की। ओम का कहना था कि यदि नसीर मदद नहीं करते तो वे यहां तक कभी नहीं पहुंच पाते।

- साल 1980 में प्रदर्शित फिल्म 'आक्रोश' ओम पुरी के सिने करियर की पहली हिट फिल्म थी। गोविन्द निहलानी निर्देशित इस फिल्म में ओम पुरी ने एक ऐसे शख्स का किरदार निभाया जिस पर पत्नी की हत्या का आरोप लगाया जाता है। फिल्म में अपने दमदार अभिनय के लिए ओमपुरी सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेता के फिल्म फेयर पुरस्कार से सम्मानित किए गए थे। 1981 में फिल्म “आक्रोश” के लिए उन्हें सर्वश्रेष्ठ सह अभिनेता का फिल्मफेयर पुरस्कार मिला था ।

- कई बेहतरीन फिल्म करने वाले ओम पुरी ने टीवी के लिए कक्काजी कहिन, भारत एक खोज, मिस्टर योगी जैसे धारावाहिकों में अभिनय किया। इसके अलावा उन्होंने आहट के कुछ अंको में काम किया है साथ ही सावधान इंडिया का सेकंड सीजन होस्ट किया।

- हिन्दी सिनेमा के अलावा, ओम पुरी कन्नड़, पंजाबी, अमेरिकन और ब्रिटिश सिनेमा में काम कर चुके हैं।

अभिनेता ओम पुरी (फाइल फोटो)
अभिनेता ओम पुरी (फाइल फोटो)

- ओम पुरी ने ईस्ट इज ईस्ट, सिटी ऑफ ज्वॉय, वुल्फ, द घोस्ट एंड डार्कनेस जैसी हॉलीवुड फिल्मों में भी उन्होंने अपने उम्दा अभिनय की छाप छोड़ी।

- ओम पुरी ने दो शादियां कीं। पहली पत्नी का नाम सीमा है जिनसे तलाक लेकर उन्होंने नंदिता पुरी से शादी की थी। दोनों का एक बेटा ईशान भी है।

-ओमपुरी का जीवन विवादों से घिरा रहा है। ओम की पत्नी ने उन पर एक किताब लिखी थी। इसमें उन्होंने लिखा था कि ओमपुरी ने 14 साल की उम्र में घर की नौकरानी के साथ संबंध बनाया था। उनकी पत्नी नंदिता ने किताब के जरिए बताया कि मामा के घर पर काम करने वाली 55 साल की नौकरानी से उन्हें प्यार हो गया था। वो ओमपुरी का पहला प्यार थी। इस किताब का नाम है 'असाधारण नायक ओमपुरी'।

- भारत के बेहतरीन अभिनेताओं में गिने जाने वाले ओम पुरी को कई राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय पुरस्कार मिले। ओमपुरी को भारत सरकार की तरफ से नागरिकों को दिया जाने वाला चौथा सबसे सम्मानित पुरस्कार पद्मश्री मिल चुका है।