मुंबई : अपनी गायकी से संगीत को नई पहचान देने वाले गुलशन कुमार की आज (12 अगस्त) ही के दिन उनके घर के नजदीक गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। गुलशन कुमार की हत्या से पूरी फिल्म इंडस्ट्री स्तब्ध थी। आज तक किसी को नहीं पता चला आखिर गुलशन कुमार की हत्या के पीछे वजह क्या थी?

रोज की तरह 12 अगस्त 1997 को गुलशन कुमार अपने घर के नजदीक स्थित शिव मंदिर में पूजा करने के लिए गए हुए थे। मंदिर से बाहर निकलते वक्त तीन हमलावरों ने ताबड़तोड़ फायरिंग कर दी। गुलशन कुमार 16 गोलियों से छलनी होने के बाद जमीन पर गिर पड़े। किसी को कुछ समझ में आता तब तक उनकी मौत हो चुकी थी।

म्यूजिक कम्पोजर नदीम सैफी पर लगा आरोप

गुलशन कुमार की हत्या के पीछे म्यूजिक कम्पोजर नदीम सैफी का हाथ बताया गया। पुलिस ने इस आरोप में नदीम को गिरफ्तार कर लिया। नदीम को डर था कि गुलशन कुमार उनका म्यूजिक कैरियर खत्म कर देंगे। गुलशन कुमार के गानों के आगे नदीम सैफी फीके पड़ चुके थे।

आरोप लगने के बाद गिरफ्तार की डर से नदीम लंदन भाग गए। उनका केस लन्दन हाईकोर्ट शिफ्ट कर दिया गया, लेकिन सबूतों के अभाव में उन्हें बरी कर दिया गया।

यह भी पढ़ें :

गुलशन कुमार पर ‘बायोपिक’ की तैयारी, जानिए क्या होगा फिल्म का नाम

ये हैं गुलशन कुमार की बेटी तुलसी, जिनके इस Video ने सोशल मीडिया पर लगाई आग

डी कंपनी ने करवाई हत्या !

एस हुसैन जैदी ने अपनी किताब माई नेम इज अबु सलेम में एक खुलासा किया था। उन्होंने लिखा था कि दाऊद की कंपनी ने गुलशन कुमार से फिरौती मांगी थी।

फिरौती की रकम देने से इनकार करते हुए गुलशन कुमार ने वैष्णो देवी में लंगर शुरू करवा दिया। इस बात से नाराज अंडरवर्ल्ड डॉन अबु सलेम ने गुलशन कुमार की हत्या करवा दी। हालांकि यह बात भी सिद्ध नहीं हो पाई कि इसमे कितनी सच्चाई है।