मुंबई : भोजपूरी फिल्मों में अपने अभिनय का परचम लहरा चुके सुपरस्टार रवि किशन आज अपना 50वां जन्दिन मना रहे हैं। जहां एक तरफ उनका जलवा फिल्मों में साफ देखने को मिलता तो वहीं दूसरी तरफ उन्होंने राजनीति में भी अपनी अच्छी पकड़ बना ली है।

रवि किशन का जन्म 17 जुलाई, 1969 को जौनपुर में हुआ। उन्होंने भोजपुरी सिनेमा में काफी नाम कमाया इसके बाद मुंबई की तरफ रुख किया। उन्होंने कई सारी बॉलीवुड फिल्मों में अहम रोल्स प्ले किए हैं। वह फिल्म 'तेरे नाम', 'फिर हेरा फेरी', 'लक', 'रावन', 'मोहल्ला अस्सी' और 'तनु वेड्स मनु' जैसी फिल्मों में नजर आ चुके हैं।

रवि किशन के संघर्ष के दिन

रवि किशन का जीवन संघर्ष और उतार-चढ़ाव से भरा रहा। रवि के पिता पहले दूध की डेयरी चलाते थे। साथ ही वे ये भी चाहते थे कि रवि भी इसी काम में लगें। मगर रवि को इसमें रुचि नहीं थी। एक समय ऐसा आया जब रवि के पिता का बिजनेस ठप्प हो गया। इसके बाद पूरा परिवार जौनपुर चला गया।

जौनपुर में जाकर परिवार की हालत और खराब हो गई। सभी मिट्टी से बने मकान में रहते थे। एक इंटरव्यू के दौरान रवि ने कठिन समय की बात करते हुए बताया था कि उनके पास मां के लिए साड़ी खरीदने के भी पैसे नहीं थे।

उन्होंने 3 महीने तक लगातार अखबार बेच कर मां के लिए साड़ी खरीदी। मगर अफसोस इसके बदले उन्हें मां के हाथों से थप्पड़ खाना पड़ा। जब उन्होंने मां को बताया कि कैसे ये साड़ी उन्होंने खरीदी तो मां ने उन्हें गले लगा लिया। बताते हैं कि 17 वर्ष की उम्र में उनकी मां ने उन्हें 500 रुपए दिए थे, जिसे लेकर वह उत्तर प्रदेश से मुंबई आ गए थे।

सीता की भूमिका

रवि के करियर की खास बात यह भी है कि वह रामलीला में भी कार्य करते थे, जहां उन्होंने सीता की भूमिका को बखूबी निभाया। कई बार नाटक मंडली में वह सीता का रोल करते थे जिस वजह से उनके पिता काफी परेशान रहते थे। उनके पिता को ये डर बना रहता था कि कहीं महिलाओं का किरदार करते करते रवि सच में सेक्स वर्कर न बन जाए। इस कारण पिता ने रवि की कई बार पिटाई की।

रवि किशन को बचपन में बॉलीवुड के महानायक अमिताभ बच्चन बेहद पसंद थे। आज रवि भोजपुरी सिनेमा के मिस्टर बच्चन के रूप में जाने जाते हैं।

कैसे बने भोजपुरी फिल्मों के स्टार

2001 में रवि किशन को भोजपुरी फिल्म सइया हमार का ऑफर मिला। रवि किशन की पहली ही भोजपुरी फिल्म ब्लॉकबस्टर साबित हुई। उसके बाद कन्यादान, गंगा जैसी माई जैसी कई भोजपुरी फिल्में आईं, जिसे लोगों ने खूब पसंद किया। रवि किशन के करियर में चार चांद लगाया फिल्म पंडित जी बताईन वियाह कैसे होई ने, ये फिल्म सुपरहिट हुई और धीरे-धीरे रवि किशन भोजपुरी सिनेमा के बड़े स्टार बन गए।