नई दिल्ली : मानव संसाधन विकास (एचआरडी) मंत्रालय ने बॉलीवुड सुपरस्टार शाहरुख खान को डॉक्टरेट की मानद उपाधि दिए जाने के जामिया मिलिया इस्लामिया (जेएमआई) के अनुरोध को मानने से इनकार कर दिया है।

‘द इंडियन एक्सप्रेस' ने आरटीआई के जरिए इसकी जानकारी मांगी थी। जामिया मिलिया इस्लामिया के पूर्व छात्र शाहरुख ने विश्वविद्यालय के मानद उपाधि दिए जाने के प्रस्ताव को अपनी सहमति दी थी जिसके बाद विश्वविद्यालय ने पिछले साल मानव संसाधन विकास मंत्रालय से इस संबंध में मंजूरी के लिए अनुरोध किया था।

ये भी पढ़ें: शाहरुख की बेटी सुहाना ने किया खुलासा, इस एक्टर को करना चाहती हैं डेट

जामिया मिलिया इस्लामिया ने उत्तर दिया, ‘‘जेएमआई ने शाहरुख को मानद उपाधि देने के लिए एचआरडी से अनुरोध किया था। एचआरडी ने इस पर सहमति नहीं जताई क्योंकि उन्हें मौलाना आजाद राष्ट्रीय उर्दू विश्वविद्यालय 2016 में पहले ही यह डिग्री प्रदान कर चुका है।''

एचआरडी अधिकारियों ने संपर्क करने पर कहा कि इस प्रकार की डिग्री कई बार दिए जाने के संबंध में कोई तय नियम नहीं है लेकिन इस चलन को आमतौर पर ‘‘प्रोत्साहित नहीं'' किया जाता। शाहरुख जामिया मिलिया इस्लामिया के जनसंपर्क अनुसंधान केंद्र में स्नातकोत्तर के छात्र थे , लेकिन पर्याप्त हाजिरी नहीं होने के कारण वह अंतिम वर्ष की परीक्षा नहीं दे पाए थे।