मुंबई : बॉलीवुड के दिग्गज अभिनेता कादर खान आज हमारे बीच नहीं है। इसके साथ ही बॉलीवुड में हास्य का एक युग खत्म हो गया। कादर खान ने हास्य अभिनेता के रुप में एक नया मकाम बनाया था।

उनके यूं चले जाने से नए साल का जश्‍न फीका हो गया और पूरा देश शोक में डूब गया। लेकिन आज हम कादर खान की दो अधूरी ख्वाहिशों के बारे में बताने जा रहे हैं. जो मरने से पहले अपनी दो ख्वाहिशें पूरी नहीं कर पाए।

अपने घुटनों का इलाज करवाने कनाडा जाने से पहले कादर खान की अंतिम बार बात उनके चहिते सह अभिनेता शक्ति कपूर से हुई थी। जिसमें कादर खान शक्ति कपूर को बताया था कि वह मरने से पहले एक बार जरूर भारत आएंगे। लेकिन यह उनकी आखिरी ख्वाहिश पूरी नहीं हो पाई।

भारत आने से पहले ही कादर खान ने डिसऑर्डर की बीमारी के चलते कनाडा की अस्पताल में मंगलवार सुबह ही दम तोड़ दिया।

कादर खान में अभिनेता अमिताभ बच्चन के साथ नसीब, मुकद्दर का सिकंदर और कूलि जैसी कई सुपरहिट फिल्मों में काम किया है। लेकिन अमिताभ के साथ कादर खान की एक अधूरी सालों पुरानी ख्वाहिश पूरी नहीं हो पाई। आपको बता दें कि कादर खान अमिताभ बच्चन और जया प्रदा को लेकर फिल्म बनाना चाहते थे। जिस फिल्म का नाम उन्होंने जाहिल रखा था।

इसे भी पढ़ें :

नहीं रहे कादर खान, इस बात पर हुआ था अमिताभ से झगड़ा

लेकिन इससे पहले ही अमिताभ बच्चन को कुली के सेट पर खतरनाक चोट आई जिसके चलते अमिताभ महीनों तक अस्पताल में एडमिट रह। लेकिन जब अमिताभ बच्चन ठीक थे तब कादर खान अपनी फिल्मों में पूरी तरह से व्यस्त हो गए थे। जिस वजह से कादर खान अपनी यह दूसरी ख्वाहिश भी पूरी नहीं कर पाए।

वैसे यह भी कहा जा रहा है कि लंबे समय तक अमिताभ और कादर खान के रिश्ते खराब रहे हैं। इस बारे में कादर खान ने इंटरव्यू में खुलासा भी किया था। कादर के मुताबिक वे नहीं चाहते थे कि अमिताभ राजनीति में प्रवेश न करें। इसको लेकर दोनों के बीच बहस भी हुई।

बकौल कादर खान जब अमिताभ सांसद बनकर दिल्ली गए थे तो कादर खुश नहीं थे। उन्हें लगता था कि राजनीति अच्छी जगह नहीं है और वो लोगों को खराब कर देती है।