मुंबई : दिग्गज अभिनेत्री सोनी राजदान का कहना है कि 'मी टू मुहिम' यौन उत्पीड़न के खिलाफ सकारात्मक बदलाव लेकर आया है, लेकिन उन महिलाओं का आकलन नहीं किया जाना चाहिए, जिन्होंने इसे लेकर अपनी आवाज नहीं उठाई है।सोनी राजदान अभिनेत्री आलिया भट्ट की मां हैं।

सोनी ने कहा, "एक पुरुष प्रधान समाज में रहते हुए मैं जानती हूं कि ऐसी घटनाएं किसी भी लड़की के लिए डरावनी हो सकती है और इसलिए यह एक सकारात्मक संकेत है कि लोग अपनी कहानियों के साथ आगे आ रहे हैं।"

उन्होंने कहा, "यह कहना आसान है कि अगर आपका उत्पीड़न होता है तो अपनी नौकरी छोड़ दें, लेकिन लोग अपनी नौकरी पर निर्भर होते हैं, क्योंकि यह उनकी जीविका और जीवन का सवाल है। इसलिए हमें मी टू से जुड़ी कहानियों के साथ आगे आने वाली पीड़िताओं का समर्थन किया जाना चाहिए और जो महिलाएं इसे लेकर चुप हैं, उनका भी इस आधार पर आकलन नहीं करना चाहिए।"

इसे भी पढ़ें :

महेश भट्ट बनाने जा रहे हैं ‘सड़क 2’, आलिया भट्ट के सामने इस रोल की है पेशकश

यह पूछे जाने पर कि कार्यस्थलों पर यौन उत्पीड़न होता है? सोनी ने कहा, "जब कोई व्यक्ति महिला का उत्पीड़न करता है तो उसे पता होता है कि महिला के पास अपनी नौकरी बचाने के लिए ऐसे उत्पीड़न झेलने होंगे। यह उसकी जीविका का सवाल है।"

अपनी फिल्म 'योर्स ट्रली' के लिए बुसान अंतर्राष्ट्रीय फिल्म फेस्टिवल में भाग लेकर लौटी अभिनेत्री ने कहा, "हर कंपनी को यौन उत्पीड़न को लेकर सख्त होना चाहिए, ताकि पीड़ित अपना पक्ष रखते हुए सुरक्षित महसूस करे।"

इसे भी पढ़ें :

पूरे भारत में #MeToo मुहिम हो चुका है रौशन, गूगल ट्रेंड्स ने इस तरह की पुष्टि