मुंबई: अभिनेत्री तनुश्री दत्ता के आरोपों पर नाना पाटेकर ने काफी नानुकुर के बाद मुंह खोला। पत्रकारों के बार बार कुरेदने पर नाना ने कहा कि जो दस साल पहले सच था वही आज भी है। इस बारे में वे पहले के बयान पर ही कायम हैं।

नाना पाटेकर ने कहा कि वे इस बारे में और कुछ नहीं बोलना चाहते हैं। हालांकि बयान देने के लिए नाना पाटेकर ने खुद प्रेस कॉन्फ्रेंस बुलाई थी। जिसे बाद में उन्होंने कैंसिल कर दिया। बावजूद इसके कुछ पत्रकारों ने उन्हें घेर लिया और तनुश्री के आरोपों पर बयान देने की गुजारिश की।

इस दौरान साफ लगा कि नाना कुछ भी बोलने से बच रहे हैं। बातों बातों में उन्होंने हाथ जोड़ लिया और कुछ और न बुलवाने की गुजारिश की।

इससे पहले मीडिया से मुखातिब होने के लिए नाना पाटेकर ने अपने बेटे मल्हार को अपना पक्ष रखने के लिए भेजा। मल्हार ने कहा, 'मैं आप सबको यह बताने आया हूं कि नाना साहब की तबीयत ठीक नहीं है। वह 69 साल के हैं और एक साथ मीडिया के इतने लोगों से बातें करना संभव नहीं है। लिहाजा वे चुनिंदा पत्रकारों से इस बारे में विस्तार से बात करेंगे।"

मल्हार के इस बयान पर भी जब पत्रकार वहां से नहीं हटे तो आखिरकार नाना पाटेकर को खुद सामने आना पड़ा।

यह भी पढ़ें:

...तो इसलिए महिलाओं ने फूंकी तनुश्री दत्ता की फोटो

नाना ने हिंदी और मारठी में बस इतना कहा कि उनके वकील ने उन्हें इस बारे में कुछ भी बोलने से मना किया है। सो फिलहाल इस बारे में वे कोई बयान नहीं देंगे। नाना पाटेकर ने कहा कि वकील जब उन्हें मीडिया से बात करने की सलाह देंगे तभी वे फिर मुखातिब होंगे।