नंदिगम सुरेश पर किये गये हमले के विरोध में शांति रैली, नेताओं ने कहा- माफी मांगे चंद्रबाबू

शांति रैली - Sakshi Samachar

विजयवाड़ा : बापट्ला सांसद नंदिगम सुरेश पर तेलुगु देशम पार्टी के नेता और कार्यकर्ताओं द्वारा किये गये हमले के विरोध में शहर में जन संगठनों के नेतृत्व में शांति रैली निकाली गई। जन संगठनों के नेतृत्व में निकाली गई रैली में नेताओं ने सांसद पर किये गये हमले की निंदा की।

इस अवसर पर आयोजित आमसभा में नेताओं ने कहा कि अमरावती किसान जेएसी के नाम पर चंद्रबाबू नायडू के समर्थकों ने सांसद सुरेश पर जान लेवा हमला किया है। उन्होंने चंद्रबाबू नायडू से दलित नेता नंदिगम सुरेश पर किये गये हमले के लिए माफी मांगे। नेताओं ने कहा कि राजधानी के विकेंद्रीकरण से ही प्रदेश का विकास संभव है।

आपको बता दें कि गत 23 फरवरी को रथोत्सव के दौरान तेलुगु देशम पार्टी के नेता और कार्यकर्ताओं ने सांसद नंदिगम सुरेश पर जान लेवा हमला किया। रविवार को सांसद सुरेश अमरावती में आयोजित रथोत्सव में भाग लेकर गुंटूर के लिए सड़क मार्ग से जाते समय हमला किया गया। लेमल्ले गांव में बदमाशों ने सांसद पर हमला किया। हमलावरों ने पहले जय अमरावती के नारे लगाये और बाद में सांसद सुरेश पर हमला किया।

इसे भी पढ़ें :

इन शहरों का कायाकल्प करने की तैयारी कर रही है जगन सरकार, जारी हुए कई निर्देश

उत्तरांध्रा का विकास चंद्रबाबू को नहीं है पसंद, इसीलिए कर रहे हैं हंगामा : अमरनाथ

किसान आंदोलन में चंद्रबाबू की भूमिका की जांच हो : नंदिगम सुरेश

इस अवसर पर सांसद सुरेश ने कहा कि योजनाबद्ध तरीके से मेरे ऊपर हमला किया गया है। अमरावती के किसानों की आड़ में टीडीपी के नेता और कार्यकर्ताओं ने हमला किया है।

उन्होंने कहा कि सीएम जगन के शासन को देखकर टीडीपी नेता बर्दाश्त नहीं कर पा रहे हैं। एक जनप्रतिनिधि पर हमला किया गया है। अब सामान्य लोगों को क्या हाल होगा। उन्होंने सरकार से आग्रह किया कि हमला करने वालों के खिलाफ कड़ी की जाये।

आल्ला रामकृष्णा रेड्डी

दूसरी ओर वाईएसआर कांग्रेस पार्टी के विधायक आल्ला रामकृष्णा रेड्डी ने कहा कि तेलुगु देशम पार्टी के प्रमुख चंद्रबाबू नायडू को किये गये भ्रष्टाचार और धोखाधड़ी के मामलों के उजागर होने का डर सताने लगा है।

रामकृष्णा रेड्डी ने रविवार को मीडिया से यह बात कही। उन्होंने आगे कहा कि सिट के गठन के चलते चंद्रबाबू नायडू और उनके साथियों में डर पैदा हो गया है। विधायक ने बताया कि चंद्रबाबू ने व्यवस्थाओं को मैनेज करके किसानों और सरकार को गुमराह किया है।

विधायक अल्ला ने कहा कि राजधानी में पुलिस और राजस्व अधिकारियों को रोकना ठीक नहीं है। उन्होंने आश्वासन दिया कि राजधानी किसानों की समस्याओं का हल करने के लिए स्थानीय विधायक और सरकार तैयार है। ऐसे हालत में कोई भी चंद्रबाबू नायडू के जाल में न फंसे

Advertisement
Back to Top