अमरावती : आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री वाईएस जगन मोहन रेड्डी की योजनाओं की तारीफ केवल आंध्र प्रदेश में ही नहीं बल्कि पूरे देश में होने लगी है। इसका नमूना आंध्र प्रदेश में उस समय देखने को मिली जब नोबल पुरस्कार विजेता कैलाश सत्यर्थी खुद जगन मोहन रेड्डी से मिले और आंध्र सरकार द्वारा चलाई जा रही कल्याणकारी योजनाओं की तारीफ की।

नोबल पुरस्कार विजेता कैलाश सत्यार्थी आंध्र प्रदेश की विधानसभा में सीएम जगन मोहन रेड्डी से मिले और आंध्र प्रदेश सरकार द्वारा राज्य के विकास के लिए चलाई जा रही तमाम योजनाओं के बारे में खुलकर चर्चा की और जगन मोहन रेड्डी सरकार के उठाए गए कदमों की सराहना की।

मुलाकात के बाद मीडिया से बात करते हुए कैलाश सत्यार्थी ने कहा कि जगन मोहन रेड्डी सरकार की महिला एवं बाल विकास संबंधी योजना पर काफी देर तक उनसे चर्चा हुई और बच्चों से जुड़ी कई योजनाएं शुरू की है और इनका लाभ लोगों तक जरूर पहुंचेगा, क्योंकि जगन मोहन रेड्डी ने ग्राम सचिवालय बनाकर वालेंटियर सिस्टम के माध्यम से योजनाओं को घर-घर पहुंचाने का संकल्प लिया है।

कैलाश सत्यर्थी को स्मृति चिन्ह भेंट करते हुए सीएम जगन मोहन रेड्डी 
कैलाश सत्यर्थी को स्मृति चिन्ह भेंट करते हुए सीएम जगन मोहन रेड्डी 

अम्मा वोड़ी योजना की प्रशंसा करते हुए कहा कि इससे स्कूल जाने वाले गरीब बच्चों को आर्थिक मदद मिलेगी। इससे खास तौर पर उन परिवारों को फायदा होगा जो परिवार गरीबी के कारण अपने बच्चों को स्कूल नहीं भेजते।

कैलाश सत्यार्थी ने कहा कि जगन मोहन रेड्डी के पास बहुत ही प्रभावशाली विचार हैं। मैंने उन्हें हर तरह का सपोर्ट और सहयोग देने का अपनी और अपनी संस्था की तरफ से करने का आश्वासन दिया है, ताकि आंध्र प्रदेश को एक चाइल्ड फ्रेंडली स्टेट बनाया जा सके।

उन्होंने यह भी कहा कि वह आशा करते हैं कि जगन मोहन रेड्डी जैसे युवा नेता व उनकी टीम के नेतृत्व में आंध्र सरकार हर बच्चे को खुश और शिक्षित बनाने का सपना साकार कर पाएगी।