विजयवाड़ा : आंध्र प्रदेश की तत्कालीन नारा चंद्रबाबू नायडू सरकार ने अमरावती में अपने करीबियों को कौड़ी के दाम पर जमीन आवंटित की है, जबकि अन्य सरकारी संस्थानों को निजी कंपनियों के मुकाबले केंद्र सरकार के संस्थानों, केंद्रीय सार्वजनिक उपक्रमों व राज्य स्तरीय विभागों को ८ गुना दाम पर जमीनें बेची है और वह भी लीज पर।

केंद्र सरकार के संस्थानों, केंद्र सरकार के अधीनस्थ उपक्रमों, बैंकों, राज्य सरकार के संस्थानों तथा निजी संस्थानों (चंद्रबाबू के करीबीयों से जुड़ी कंपनियों व संस्थाओं को जमीन) आवंटन में काफी भेदभाव किया है। चंद्रबाबू सरकार ने 1696 एकड़ जमीन करीब २15 संस्थानों, 180 केंद्र सरकार के संस्थान, सरकारी कार्यालयों के लिए 7 एकड़ तथा 1300 एकड़ जमीन 66 निजी सस्थानों को आवंटित किया है।

बाबू सरकार ने डाक विभाग को 5.5 एकड़ जमीन (प्रति एकड़ एक करोड़ रुपए), भारतीय नौ सेना, BIS को 30 एकड़, CAG को 17 एकड़, CBI को 3 एकड़ 50 सेंट जमीन, IGNOU को 60 एकड़, IMD को 1 एकड़, भारतीय विदेश मंत्रालय, सेना को 4 एकड़, भारत स्काउट्स एंड गाइड्स के लिए 7.5 एकड़ जमीन प्रति एकड़ एक करोड़ रुपए के दाम पर 60 साल के लिए लीज पर दी थी।

उसी तरह, केंद्र सरकार के उपक्रमों में एसबीआई, एफसीआई, सिंडीकेट बैंक, एचपीसीएल, एसबीआई, रेल इंडिया, सर्वे ऑफ इंडिया, नाबार्ड, यूनियन बैंक ऑफ इंडिया, भारत पेट्रोलियम लिमिटेड सहित अन्य उपक्रमों को प्रति एकड़ 4 करोड़ रुपए के हिसाब से 60 साल के लीज पर दिया है।

दूसरी तरफ, चंद्रबाबू सरकार ने निजी कंपनियों मुख्य रूप से चंद्रबाबू के करीबियों से जुड़ी इंफ्रा कंपनियो व संस्थानों को कौड़ी के दाम पर जमीन आवंटित की है और वह भी स्थाई रूप से बेची है। केंद्र व केंद्र सरकार के उपक्रमों व राज्य सरकार के प्रति कंजूसी दिखाते हुए प्रति एकड़ चार करोड़ रुपए आवंटित कर चुकी बाबू सरकार ने जब निजी कंपनियों व संस्थआों की बात आई तो दरिया दिल दिखाने में कोई कसर नहीं छोड़ी है।

इसे भी पढ़ें :

प्रशासन के विकेंद्रीकरण बिल को जनसेना विधायक रापाका ने दिया समर्थन

बाबू सरकार ने एसआरएम यूनिवर्सिटी के लिए 200 एकड़, अमृता यूनिवर्सिटी के लिए 200 एकड़, इंडो-अमेरिकन इंस्टीट्यूट के लिए 150 एकड़, वीआरएस मेडिसिटी एंड हेल्थ के लिए 100 एकड़ जमीन सिर्फ 50 लाख रूपए प्रति एकड़ की दर से आवंटित की है।

इसके अलावा पीपीपी मॉडल के तहत भी बाबू सरकार ने विभिन्न होटलों व कन्वेंशन सेंटरों के लिए भी बहुत कम दाम पर जमीनें आवंटित की है। वरुण हॉस्पिटॉलिटी के लिए 4 एकड़, महालक्ष्मी इंफ्रा, इंदु होटल, फॉर्च्यून मुरली होटल, अमरावती कोस्टाल मेंटेनन्स, वरुन हॉस्पिटॉलिटी कन्वेंशन सेंटर के लिए ५ एकड़ जमीन सिर्फ १.५ करोड़ रुपए प्रति एकड़ बेची है।