कर्नूल : ग्रामस्तर पर जनसमस्याओं का निवारण करने वाले वीआरओ सरकारी नौकरदार होने की बात भूलकर स्ट्रीट राउडियों की तरह आपस में भिड़ गए। दोनों के बीच हाथापाई के अलावा चप्पलबाजी तक हुई। इस बीच, एक वीआरओ ने दूसरे वीआरओ का कान काटकर अपना बदला ले लिया। यह घटना रविवार को कर्नूल तहसीलदार कार्यालय में घटी।

कर्नूल मंडल के सुंकेसुला के वीआरओ के रूप में वेणुगोपाल रेड्डी कार्यरत हैं और तहसीलदार तिरुपित साई ने उसे वेबलैंड में ऑनलाइन एनरोल करने की जिम्मेदारी सौंप रखी है। इसके लिए तहसीलदार ने डिजिटल की तक वेणुगोपाल रेड्डी को जुलाई के महीने में सौंप दी है। वेणुगोपाल रेड्डी गत जुलाई से ऑनलाइन पर नामों में करेक्शन का काम कर रहा है। हर करेक्शन का चार्ज उस गांव की जमीन की कीमत के आधार पर निर्धारित कर किसानों से वसूला जाता है।

इस बीच, इसी तहसील के अंतर्गत आने वाले जोहरापुरा निवासी महेश्वरय्या का नाम ऑनलाइन पर महेश्वरम्मा के रूप में एनरोल हुआ है। उसी तरह, उसी गांव के पांडुरंगस्वामी के घर का नाम ऑनलाइन पर एनरोल नहीं हुआ है। इन दोनों में करेक्शन की अपील करते हुए जोहरापुरम के वीआरओ श्रीकृष्णदेवरायलु ने फाइल फारवर्ड किया। फाइल सौंपने के दो सप्ताह तक काम पूरा नहीं होने को लेकर श्रीकृष्णदेवरायलु ने रविवार सुबह वेणुगोपाल रेड्डी की खिंचाई कर दी। बातों-बातों में दोनों वीआरओ के बीच बहस बड़ गई और दोनों हाथापाई पर उतर गए।

इसे भी पढ़ें :

कर्नूल सरकारी अस्पताल के निकट तनाव , मृतक परिवार के सदस्यों ने की मुआवजे की मांग

कर्नूल : सड़क हादसे में एक की मौत और छह गंभीर रूप से घायल

इसी बीच, श्रीकृष्णदेवरायलु ने वेणुगोपाल रेड्डी का कान काट लिया, जिससे कान से गंभीर रक्तस्राव हुआ। दोनों के थाने पहुंचने पर तहसीलदार तिरुपति साई ने तुरंत मामले में हस्तक्षेप करते हुए तहसीलदार कार्यालय में मामले को रफा-दफा करने की कोशिश की। परंतु दोनों एक बार फिर भड़क गए और उन्होंने एक-दूसरे को चप्पलों से पीटा। श्रीकृष्णदेवरायलु ने एक बार फिर वेणुगोपाल रेड्डी का कान काटा।

वेणुगोपाल रेड्डी का कहना था कि वीआरओ श्रीकृष्णदेवरायलु ने किसानों से करेक्शन के लिए लाखों रुपए लिए हैं और उसमें से उसे नया पासा नहीं दिया है।