विजयवाड़ा : आंध्र प्रदेश के राज्यपाल बिश्वभूषण हरिचंदन ने कहा कि एक जमाने में हम ऑर्गेनिक खेती करते थे। मगर वाणिज्य कारणों के चलते किसान खाद (उर्रवरक) का उपयोग करने लगे हैं। राज्यपाल ने रविवार को कृष्णा जिले के बापुलपाडु मंडल क्षेत्र के गंगन्नागुडेम गांव का दौरा किया। इस दौरान राज्यपाल ने ऑर्गेनिक खेती करने वाले किसान और स्वयंसेवी संगठन की महिलाओं से रूबरू हुए।

इस अवसर पर राज्यपाल ने कहा, "रासायनिक के कारण भूमि की शक्ति में कमी होगी और कुछ समय बाद भूमि कृषि के योग्य नहीं रह पाएगी। मैं प्राकृतिक कृषि को प्रोत्साहिन करने के लिए यहां पर आया हूं। इसी समय पूरी फसल जहरीली होती जा रही है। ऐसे हालात में ऑर्गेनिक खेती बहुत जरूरी है। केंद्र और प्रदेश सरकार से इस बारे में बातचीत करके ऑर्गेनिक खेती को प्रोत्साहित करने का प्रस्ताव रखूंगा।"

जिलाधीश इम्तियाज ने कहा, "जिले में हर दिन प्राकृतिक कृषि में बढ़ोत्तरी हो रही है। इस बात को ध्यान में रखते हुए किसानों को गाय खरीदी करने के लिए आवश्यक वित्तीय सहायता प्रदान की जाएगी। जिले में 18 हजार ऑर्गेनिक खेती किसान मौजूद हैं। हाल ही में दिल्ली में इस विभाग की ओर से किसानों ने पुरस्कार भी हासिल किये हैं। राज्यपाल स्वयं ऑर्गेनिक खेती को देखने के लिए आना संतोष की बात है।"

यह भी पढ़ें:

CM YS जगन ने दी वाल्मीकि जयंती की बधाई, बोले- मानवीय मूल्यों पर चलने की सीख देती हैं रामायण

आंध्र प्रदेश में भक्त कनकदास जयंती उत्सव आधिकारिक रूप से मनाई जाएगी, आदेश जारी

इस अवसर पर राज्यपाल के सचिव मुकेश कुमार मीना, सब कलेक्टर स्वप्निल दिनकर और अन्य कृषि अधिकारी मौजूद थे।