अमरावती : गोदावरी नदी में नाव के डूबने से लापता हुए लोगों की तलाश एक तरफ जारी है, वहीं दूसरी तरफ नदी में बाढ़ का खतरा बढ़ने लगा है। राहत कार्यों में रुकावट पैदा होने से नदी में 300 फूट से अधिक नीचे फंसी नाव को बाहर निकालने में विलंब होने की संभावना है। अब तक 8 लोगों के शव बाहर निकाल कर उन्हें उनके परिजनों को सौंप दिया गया है तथा अभी 38 लोगों का पता लगना बाकी है।

इस बीच, एनडीआरएफ ने डूबी नाव करीब 315 फूट नीचे दबे होने का पता लगाया है। सोमवार की रात्र 8 बजे तक बचाव व राहत का काम जारी रहा, लेकिन बाढ़ का खतरा बढ़ जाने से अब यह काम मंगलवार भी जारी रहेगा। उधर, मुख्यमंत्री वाईएस जगन मोहन रेड्डी समय-समय पर बचाव व राहत कार्यों की जानकारी हासिल करते हुए जरूरी दिशा-निर्देश देरहे हैं। हादसे में लापता हुए अधिकांश लोग नाव के नीचे दबे होने की आशंका व्यक्त की जा रही है।

इससे पहले आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री वाईएस जगन मोहन रेड्डी ने गोदावरी नाव हादसा क्षेत्र का हवाई सर्वेक्षण किया। सीएम जगन सर्वेक्षण के लिए सोमवार की सुबह 9:25 बजे ताड़ेपल्ली से रवाना हुये। सर्वेक्षण के बाद मुख्यमंत्री जगन मोहन रेड्डी राजमंड्री के सरकारी अस्पताल पहुंचकर नाव हादसे में बचाये गये लोगों की मिजाजपूर्सी की। उन्होंने डॉक्टरों को जरूरी चिकित्सा उपलब्ध कराने के आदेश दिया। इस दौरान उनके साथ मंत्री अनिल कुमार यादव और सुचरिता भी रहें।

गोदावरी नाव हादसे का हवाई सर्वेक्षण करने के लिए रवाना होतो सीएम जगन मोहन रेड्डी
गोदावरी नाव हादसे का हवाई सर्वेक्षण करने के लिए रवाना होतो सीएम जगन मोहन रेड्डी

सर्वेक्षण के बाद मुख्यमंत्री जगन मोहन रेड्डी राजमंड्री के सरकारी अस्पताल पहुंचकर नाव हादसे में बचाये गये लोगों की मिजाजपूर्सी की। उन्होंने डॉक्टरों को जरूरी चिकित्सा उपलब्ध कराने के आदेश दिया। इस दौरान उनके साथ मंत्री अनिल कुमार यादव और सुचरिता भी रहें।

गोदावरी नाव हादसे का शिकार लोगों से अस्पताल में  मिजाजपूर्सी करते सीएम जगन मोहन रेड्डी
गोदावरी नाव हादसे का शिकार लोगों से अस्पताल में  मिजाजपूर्सी करते सीएम जगन मोहन रेड्डी

आंध्र प्रदेश के कृषिमंत्री कुरसाला कन्नबाबू ने बताया कि मुख्यमंत्री वाईएस जगन मोहन रेड्डी ने इससे पहले हुई गलतियों की पुनरावृत्ति को रोकने के लिए ठोस कदम उठाने के आदेश दिए हैं। साथ ही उन्होंने तत्काल कंट्रोल रूम की व्यवस्था करने और इस काम में पुलिस, सिंचाई और टूरिज्म विभागों को हिस्सेदार बनाने का निर्देश दिया है। कचुलुरु गांव के निकट हुए नाव हादसे पर मंत्री कुरुसाला कन्नबाबू ने चिंता व्यक्त की। उन्होंने कहा कि इस दुर्घटना से आहत सीएम जगन मोहनरेड्डी ने तत्काल कार्रवाई कर बचाव व राहत कार्य शुरू करने का आदेश दिया है।

कुरुसाला कन्नबाबू 
कुरुसाला कन्नबाबू 

उन्होंने कहा कि नाव की रखरखाव को लेकर शासनादेश जारी कर चुकी पिछली टीडीपी सरकार जिम्मेदार लोगों की पहचान नहीं कर पाई है। उन्होंने कहा कि सिंचाई अधिकारियों को पता होना चाहिए कि नावों को अब अनुमति देनी चाहिए और कब नहीं। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री ने हर महीने नावों की फिटनेस की जांच करने के आदेश दिए हैं। साथ ही राज्यभर में पर्यटन से जुड़ी सभी नावों की स्थिति की समीक्षा करने का भी आदेश दिया है। कन्नबाबू ने बताया कि कल की घटना के बाद रविवार से राज्य में नावों की अनुमति रद्द कर गई है और फिटनेस की अनुमति पाने के बाद ही उन्हें फिर से अनुमति बहाल की जाएगी।

पिछली सरकार की गलती से हुआ हादसा

तेलंगाना के पंचायतीराज मंत्री एर्राबेल्ली दयाकर राव
तेलंगाना के पंचायतीराज मंत्री एर्राबेल्ली दयाकर राव

तेलंगाना के पंचायतीराज मंत्री एर्राबेल्ली दयाकर राव ने पूर्वी गोदावरी जिले के देवीपटनम मंडल के कचुलुरू गांव के पास हुई नाव दुर्घटना का जिक्र करते हुए कहा कि निजी नावों को सरकारी जांच के बिना टीडीपी सरकार ने शासनदेश कैसे जारी कर सकती है। उन्होंने कहा कि इस दुर्घटना के लिए पिछली टीडीपी सरकार ही जिम्मेदार है।

उन्होंने कहा कि टीडीपी सरकार द्वारा गलत शासनादेश जारी किए जाने के कारण ही यह हादसा हुआ है और यह सब पिछली सरकार का पाप है।

अभी 33 लोगों का पता लगाना बाकी

मीडिया से बात करते हुए पिल्ली सुभाष चंद्रबोस
मीडिया से बात करते हुए पिल्ली सुभाष चंद्रबोस

उपमुख्यमंत्री पिल्ली सुभाष चंद्रबोस ने बताया कि कच्चुलुरु के पास हुए नाव हादसे में लापता हुए और 33 लोगों का पता लगाना बाकी है। उन्होंने बताया कि सीएम वाईएस जगन ने भविष्य में इस तरह की घटनाओं की पुनरावृत्ति को रोकने के लिए ठोस कदम उठाने के स्पष्ट आदेश दिए हैं।

मछुआरे नाव की सहायता से नाव हादसे में डूबे लोगों की कॉटन ब्रिज के निकट जाल फेंककर तलाश कर रहे हैं। राजमंड्री अस्पताल के निकट पीड़ितों के लिए विशेष हेल्प डेस्क बनाया गया है।

धवलेश्वरम बैराज
धवलेश्वरम बैराज

आंध्र प्रदेश में धवलेश्वरम बैराज के निकट गेट बंद कर पानी में डूबे लोगों की तलाश की जा रही है। धवलेश्वर के निकट भारी बारिश के कारण राहत कार्य में अड़चनें हो रही हैं।

 पर्यटन मंत्री अवंती श्रीनिवास और नागुलापल्ली धनलक्ष्मी के साथ वाईएसआरसीपी के नेता
पर्यटन मंत्री अवंती श्रीनिवास और नागुलापल्ली धनलक्ष्मी के साथ वाईएसआरसीपी के नेता

इसे भी पढ़ें :

गोदावरी नाव हादसा : अब तक 12 की मौत, 37 लापता, देखें पूरी लिस्ट

गोदावरी नाव हादसा : अब तक 8 की मौत, 71 लोग थे सवार, घटना से पहले का देखिए वीडियो

आपको बता दें कि पूर्वी गोदावरी में देवीपटनम के निकट नाव हादसे का पर्यटन मंत्री अवंती श्रीनिवास ने सोमवार की सुबह घटनास्थल का निरीक्षण किया। उनके साथ विधायक जक्कमपुडी राजा, नागुलापल्ली धनलक्ष्मी, वाईएसआरसीपी के नेता उदय भास्कर हैं।