गुंटूर : उंडावल्ली के निकट कृष्णा नदी में बाढ़ के चलते वीआरओ ने चंद्रबाबू नायडू के मकान पहुंच कर नोटिस दिया। बाढ़ का खतरा बढ़ने से उन्होंने मकान छोड़ने को लेकर नोटिस दिया। उन्होंने स्पष्ट किया की उंडावल्ली के निकट किनारे पर बने 32 मकानों में बाढ़ का पानी घुस आया।

बाढ़ प्रभावितों को मकान छोड़ने का नोटिस जारी किया गया। चंद्रबाबू नायडू के मकान पहुंचने पर वहां तैनात सुरक्षाकर्मी ने वीआरओ को अंदर जाने के अनुमति नहीं दी। सुरक्षाकर्मी को बात करते हुये वीआरओ ने उन्हें शीघ्र घर खाली करने का निर्देश दिया।

आप को बता दें कि नदी के ऊपरी क्षेत्र गुंटूर में कई जगहों पर जलभराव हुआ है। नदी किनारे बसे कई गांव जलमग्न हो गये हैं। गांवों बाढ़ का पानी घुस आया है। दाचेपल्ली मंडल के रामपुरम, माचावरम मंडल के वेगुलागड्डा, अच्चमपेट मंडल के मदिपाडु, गिंजापल्ली, जीडिपल्ली, तांडुवाई, चल्लागरिगा, दामर्ला, कोडुरू गांवों में कपास और मिरची की फसल बड़े पैमाने पर बर्बाद हो गई।

इसे भी पढ़ें :

एपी के गवर्नर ने किया बाढ़ प्रभावित क्षेत्र का हवाई सर्वेक्षण, अधिकारियों को दिये ये निर्देश

एपी के मंत्रियों ने बाढ़ प्रभावित क्षेत्र का किया दौरा, दिये आवश्यक निर्देश

गुंटूर जिले के कोल्लीपारा मंडल के पाताबोम्मवानवीपालेम, अन्नावरपुलम, कोल्लुरु मंडल के आवुलावारीपालेम, पेसर्ला, पोतारम, जु्व्वालापालेम, ईपुरु आदि गांवों में केला, हल्दी और खाने के पाने के बगीचे में बड़े पैमाने पर फसले प्रभावित हुई हैं।