अमरावती : आंध्र प्रदेश के पर्यटन मंत्री अवंति श्रीनिवास राव ने कहा कि वह टीडीपी प्रमुख चंद्रबाबू नायडू को एक सीनियर नेता माना था, लेकिन बाबू का रवैया तानाशाह जैसा रहा। उन्होंने कहा कि जब वह टीडीपी में थे तब उन्होंने चंद्रबाबू को कई सुझाव दिए, लेकिन उनकी एक नहीं सुनी गई। कभी व्यक्तिगत स्वार्थ के लिए काम नहीं करने का हवाला देते हुए अवंति श्रीनिवास ने कहा कि विधानसभा सत्र के आखिरी और पांचवें दिन मंगलवार को सरकारी योजनाओं को लेकर विपक्ष अनावश्यक दुष्प्रचार कर रहा है।

उन्होंने कहा कि वाईएसआरसीपी प्रमुख व मुख्यमंत्री वाईएस जगन मोहन रेड्डी ने कभी अपने सिद्धांतों को नहीं छोड़ा है। वाईएसआर कांग्रेस पार्टी के मेनिफेस्टो में वही वादे किए गए हैं, जो हम पूरा करेंगे। उन्होंने बताया कि अगले पांच वर्षों में लोगों को दिए गए सभी आश्वसन पूरे किए जाएंगे।

चंद्रबाबू नायडू पर राज्य के साथ नाइंसाफी करने का आरोप लगाते हुए कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री विशेष दर्जे के मामले में कई बार यूटर्न ले चुके हैं। हर जगह अमरावती का बखान करने वाले चंद्रबाबू क्यों हार गए, उन्हें इसको लेकर आत्मचिंतन करना चाहिए। उन्होंने कहा कि लोगों ने हाल के विधानसभा चुनाव में टीडीपी को सिर्फ 23 सीटें दी हैं, इसके बावजूद पार्टी विधायकों का रवैया नहीं बदला और बार-बार सदन में व्यवधान डाल रहे हैं।

इसे भी पढ़ें :

AP : दिवंगत विधायकों को सदन में दी गई श्रद्धांजलि, आज होगा डिप्टी स्पीकर का चयन

उन्होंने कहा कि आंध्रप्रदेश के लिए नए उद्योग लाने और स्थानीय बेरोजगार युवाओं को रोजगार मुहैया कराने का आश्वासन दे चुके चंद्रबाबू नायडू को पोलावरम परियोजनाओं पर आत्मचिंतन कर लेना चाहिए।

उन्होंने कहा कि इस परियोजना में कितना घोटाला हुआ है, इसका खुलासा तथ्यान्वेषण कमेटी करेगी। उन्होंने कहा कि टीडीपी के शासनकाल में समाज के अधिकांश वर्गों में असुरक्षा की भावना साफ दिखती रही। हाल के चुनाव में राज्य के लोगों ने वाईएस जगन को भारी बहुमत के साथ मुख्यमंत्री बनाया है।