अमरावती : आंध्र प्रदेश के सिंचाई मंत्री अनिल कुमार यादव ने कहा कि टीडीपी सरकार ने नीरू-चेट्टू कार्यक्रम के नाम पर 18 हजार करोड़ रुपये का घपला किया है। उन्होंने सोमवार को विधानसभा सत्र के दौरान कहा कि लाइफलाइन ऑफ आंध्र प्रदेश कहे जाने वाली पोलावरम परियोजना की अनुमानित लागत 16 हजार करोड़ से बढ़ाकर 56 हजार करोड़ करने का श्रेय टीडीपी सरकार को जाता है।

पिछली टीडीपी सरकार पर धर्मपोराटम दीक्षा के नाम से 500 करोड़ रुपये हजम करने का भी आरोप लगाते हुए मंत्री ने कहा कि चंद्रबाबू अली बाबा चालिस चोर की तरह वाईएसआर कांग्रेस पार्टी के 23 विधायकों को खरीद लिया था, इसीलिए अब भगवान ने उन्हें केवल 23 विधायक दिए हैं।

सिंचाई मंत्री ने कहा कि पोलावरम परियोजना के लिए जरूरी 24 में से 23 अनुमतियां हासिल करने का श्रेय दिवंगत मुख्यमंत्री वाईएस राजशेखर रेड्डी को जाता है। उन्होंने कहा कि आज अगर पोलावरम परियोजना का काम आगे बढ़ा रहा है तो वह सिर्फ और सिर्फ वाईएसआर की बदौलत संभव हुई है।

इसे भी पढ़ें :

गृहमंत्री सुचरिता की चेतावनी, बोलीं- महिलाओं को परेशान करने वालों की अब खैर नहीं

उन्होंने कहा कि टीडीपी विधायक अच्चेन्नायडू विपक्ष में बैठने के बावजूद नहीं बदले। उन्होंने कहा कि अच्चन्नायडू को एक जिम्मेदार विपक्ष की हैसियत से बात करना चाहिए। उन्होंने कहा कि गुंटूर के अस्पताल में एक बच्चे की चूहा काटने से मौत होने पर टीडीपी सरकार ने एक चूहा पकड़ने में लाखों रुपए खर्च किए हैं। उन्होंने कहा कि 300 चूहे पकड़ने में टीडीपी सरकार ने जनता के 60 लाख फूंक दिए। उन्होंने कहा कि टीडीपी सरकार ने पोलावरम से जुड़े कार्यों को पूरा करने में लापरवाही बरती है।