गन्नावरम : फिल्म निर्देशक रामगोपाल वर्मा ने आंध्र प्रदेश की कार्रवाई को अनुचित ठहराया है। उन्होंने कहा कि पुलिस ने उन्हें विजयवाड़ा से जबरन वापस भेज दिया। रामगोपाल वर्मा और निर्माता राकेश रेड्डी को पुलिस ने गन्नावरम हवाई अड्डे के लॉंज में बंदी बनाया। वर्मा ने बताया कि कानून-व्यवस्था प्रभावित होने का हवाला देते हुए वापस हैदराबाद जाने के लिए उनपर दबाव बनाया गया।

रामगोपाल वर्मा ने कहा, क्या में आतंकवादी हूं...कि मुझे बंदी बनाया गया। बंदी बनाने का हक पुलिस को किसने दिया है? परंतु पुलिस ने वर्मा के किसी प्रश्न का जवाब नहीं दिया। वर्मा ने जब अपने नजरबंद पर सच्चाई बताने की कोशिश की तो एपी पुलिस ने उन्हें हिरासत में ले लिया। उन्होंने एक ट्वीट पर वीडियो पोस्ट कर कहा कि आंध्र प्रदेश में लोकतंत्र नहीं बचा है।

प्रेसमीट रद्द... वापस हैदराबाद रवाना

रागोपाल वर्मा ने लक्ष्मीज एनटीआर फिल्म के आंध्र प्रदेश में रिलीज होने के मद्देनजर विजयवाड़ा में रविवार शाम प्रस्तावित प्रेस मीट रद्द करने की घोषणा की। उन्होंने कहा कि पुलिस ने जबरन बंदी बनाया, इसलिए वह वापस हैदराबाद लौट रहे हैं। उन्होंने ट्वीट कर कहा कि चंद्रबाबू नायडू जी कहां है लोकतंत्र ?

इसे भी पढ़ें :

Lakshmi’s NTR के लिए सड़क पर प्रेस-मीट करेंगे रामगोपाल वर्मा

इस बीच, विजयवाड़ा पुलिस ने कहा कि लक्ष्मीज एनटीआर सिनेमा रिलीज के दौरान निर्देशक रामगोपाल वर्मा द्वारा प्रस्तावित प्रेस मीट के आयोजन को अनुमति नहीं दी गई है। पुलिस ने कहा कि वर्तमान में विजयवाड़ा नगर की परिधि में धारा 30 पुलिस एक्ट, 114 सीआरपीसी, चुनाव आचार संहिता लागू है।

इसिलिए प्रेसमीट के आयोजन के लिए पूर्व अनुमति लेनी जरूरी है। प्रतिदिन भीड़-भाड़ रहने वाले विजयवाड़ा स्थित पाइपुल रोड, एनटीआर सर्किल के पास प्रेसमीट आयोजित करने से यातायात प्रभावित होकर लोगों को असुविधा होने का खतरा है। यही नहीं, उस क्षेत्र के आईबीएम कॉलेजों में परीक्षाएं होने के मद्देनजर प्रेसमीट रद्द कर दी गई है।