तिरुमला : हिंदू मंदिर सरंक्षण समिति के संस्थापक स्वामी कमलानंद भारती ने सनसनीखेज आरोप लगाया कि श्री भगवान बालाजी के लगभग 1400 किलोग्राम सोने को गबन करन के लिए ही बैंक में से इसे निकाला गया था। स्वामी ने मीडिया से यह बात कही।

उन्होंने आगे कहा कि तिरुमला तिरुपति देवस्थानम के इतिहास में सिंघाल जैसा घटिया और असमर्थ कार्यकारी अधिकारी को मैंने अब तक नहीं देखा है। भारती ने यह भी कहा कि तिरुमला के जेईओ श्रीनिवास राजू भी हिंदू धर्म विरोधी और भ्रष्टाचारी व्यक्ति है।

स्वामी ने सरकार से मांग की है कि लगभग 400 करोड़ रुपये सोने के घोटाले के मुख्य सूत्रधार टीटीडी के कार्यकारी अधिकारी और जेईओ को तुरंत गिरफ्तार किया जाए। साथ ही उन्होंने सोना घोटाले की जांच सीबीआई या वर्तमान जज से किये जाने की मांग की है।

इसे भी पढ़ें:

मुख्यमंत्री केसीआर ने तिरुपति बालाजी में चढ़ाए 5 करोड़ के गहने

तिरुमला तिरुपति देवस्थानम में हुई बालों की नीलामी, 11 करोड़ से अधिक हुई आमदनी

गौरतलब है कि गत 17 अप्रैल को तमिलनाडु पुलिस ने लगभग 1400 किलोग्राम सोने को चेन्नई क्षेत्र के तुरुवल्लुरु पुदुसत्रम के पास प्लाइंग स्क्वायड ने वाहनों की जांच के दौरान बरामद किया था। इतना सोना बिना किसी सुरक्षा से केवल ऑटो में ले जा रहा था।

इसी क्रम में वाईएसआर कांग्रेस पार्टी के प्रवक्ता वासीरेड्डी पद्मा ने भी इसकी न्यायिक जांच की मांग की है। उन्होंने यह भी कहा था कि बरामद सोने के बारे में सभी लोग जानना चाहते हैं। अब स्वामी कमलानंद भारती ने इस घटना की जांच की मांग की है।