DGP आर पी ठाकुर सरकारी गाड़ी से जिलों में पहुंचा रहे हैं करोड़ों रुपए... विजय साई रेड्डी

चुनाव आयोग से मिलने के बाद मीडिया से बात करते वाईएसआरसीपी के नेता  - Sakshi Samachar

नई दिल्ली : वाईएसआर कांग्रेस पार्टी के राज्यसभा सांसद विजय साई रेड्डी ने अपने पार्टी के अन्य नेताओं के साथ आज निर्वाचन आयोग की फुल बेंच से मुलाकात की और चंद्रबाबू सरकार की करतूतों और अधिकारियों के द्वारा किए जा रहे पक्षपातपूर्ण रवैया का खुलासा किया।

विजय साई रेड्डी ने निर्वाचन आयोग को बताया कि आंध्र प्रदेश के डीजीपी आर पी ठाकुर अधिकारी की तरह नहीं बल्कि टीडीपी कार्यकर्ता और नेता की तरह आचरण कर रहे हैं। डीजीपी आर पी ठाकुर ने खुद अपने सरकारी गाड़ी में ₹35 करोड़ अमरावती से ले जाकर प्रकाशम में पहुंचाया है। उन्होंने डीजीपी को खुली चुनौती देते हुए कहा कि अगर उन्हें यह आरोप गलत लगता है तो वह मेरे खिलाफ कोई भी कार्यवाही कर सकते हैं।

इसके अलावा आंध्र प्रदेश सरकार द्वारा इंटेलिजेंस विभाग को पुलिस से अलग किए जाने पर भी अपनी आपत्ति जताते हुए कहा कि चंद्रबाबू किस तरह से संवैधानिक संस्थाओं को गुमराह कर रहे हैं और अपने स्वार्थ के चलते इस तरह का गलत तरीके से जियो निकाल रहे हैं । इससे एक संवैधानिक संकट पैदा होगा बाबू का यह रवैया यह बतलाता है कि उन्हें संवैधानिक संस्थाओं पर कोई भरोसा नहीं है ।

विजय साई रेड्डी ने कहा कि चुनाव आयोग के निर्णय अभी तक जो भी हुए हैं उसे वाईएसआर कांग्रेस पार्टी पूरी तरह संतुष्ट नहीं है कुछ और मामलों में भी आयोग को शक्ति दिखानी चाहिए और डीजीपी समय लगा शाम गुंटूर और चित्तूर की पुलिस और जिला अधिकारियों पर कार्यवाही करनी चाहिए उनका रवैया भी तेलुगु देशम पार्टी के लिए काम करने जैसा है।

इसके अलावा विजय साई रेड्डी ने बताया कि के.ए. पॉल द्वारा की जा रही गतिविधियों और उनके द्वारा वाईएसआरसीपी को नुकसान पहुंचाने के लिए एक ही नाम के उम्मीदवार उतारने और एक ही तरह के झंडे और चुनाव चिन्ह का इस्तेमाल करने की कोशिश से भी निर्वाचन आयोग को अवगत कराया और कहा कि आयोग को इन सब मामलों को भी संज्ञान लेना चाहिए।

आईटी ग्रिड्स डेटा मामले को लेकर तेलंगाना पुलिस ने अब तक संपर्क नहीं किया : RP ठाकुर

वाईएसआर कांग्रेस पार्टी के नेता खुफिया विभाग के प्रमुख के मामले में आंध्र प्रदेश सरकार द्वारा लाए गए विवादास्पद शासनादेश के मुद्दो को भी मुख्य चुनाव आयुक्त के समक्ष ले गए। उन्होंने बताया कि चुनाव आचार संहिता लागू होने के बावजूद पसपु कुमकुम योजना के तहत सीधे महिलाओं के खाते में टीडीपी की तरफ से धन जमा कराया जा रहा है।

इसे भी पढ़ें :

AP Elections 2019: लोकेश को सता रहा ‘वायकांपा फोबिया’, भरी सभा में फिर उड़ा मजाक

उन्होंने बताया कि चुनाव के मद्देनजर विभिन्न निर्वाचन क्षेत्रों को पुलिस वाहनों में ही धन भेजा जा रहा है। इसी क्रम में घट्टमनेनी श्रीनिवास, योगानंद, विक्रांत पाटिल, कोया प्रवीण के साथ कुछ अन्य आईपीएस अधिकारी आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री के इशारे पर टीडीपी के अनुकूल काम कर रहे हैं।

आपको बता दें कि आंध्र प्रदेश के खुफिया विभाग के प्रमुख एबी वेंकटेश्वर राव को हटाने के केंद्रीय चुनाव आयोग के आदेश का आंध्र प्रदेश सरकार ने उल्लंघन किया है। एबी वेंकटेश्वर राव को खुफिया विभाग के प्रमुख पद से हटाकर पुलिस महानिदेशक कार्यालय में अटैच करते हुए मंगलवार को शासनादेश नंबर 716 जारी कर चुकी राज्य सरकार ने उसके अगले ही दिन बुधवार को उक्त शासनादेश रद्द कर शासनादेश संख्या 720 जारी किया है।

आज निर्वाचन आयोग की फुल बैंच से मिलने वाले नेताओं में विजय साई रेड्डी के साथ वाईवी सुब्बा रेड्डी बोत्सा सत्यनारायण उम्मारेड्डी वेंकटेश्वर भी शामिल थे।

Advertisement
Back to Top