कडप्पा: पूर्व मंत्री व सांसद YS विवेकानंद रेड्डी की हत्या किए जाने की पुष्टि हुई है। पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में बड़ा खुलासा हुआ है। जिसके मुताबिक YS विवेकानंद रेड्डी की हत्या की गई है। दिवंगत YSRCP नेता के ललाट पर दो गहरे घाव हैं। इसके अलावा जांघ और हाथ पर भी गहरे घाव के निशान हैं। डॉक्टरों के मुताबिक मृतक के शरीर पर नुकीले हथियार से सात बार हमला किया गया।

कडप्पा पुलिस अधीक्षक राहुल देव के मुताबिक घटनास्थल पर फिंगर प्रिंट्स मिले हैं। जिसकी जांच की जा रही है। फिलहाल फॉरेंसिक टीम पुलिवेंदुला पहुंच रही है। सीआईडी और सरकार की विभिन्न जांच एसेंसिया मामले में सक्रिय है।

आंध्र प्रदेश के पूर्व मंत्री और वाईएसआर कांग्रेस पार्टी के नेता वाई.एस.विवेकानंद रेड्डी (68) को शुक्रवार को यहां उनके आवास पर संदिग्ध परिस्थितियों में मृत पाया गया। जिसके बाद अब खुलासा हो रहा है कि उनकी हत्या की गई थी।

सबसे पहले दिवंगत वाई एस विवेकानंद रेड्डी के निजी सहायक कृष्णा रेड्डी की शिकायत पर पुलिस ने अपराध प्रक्रिया संहिता की धारा 174 के तहत अप्राकृतिक मौत का मामला दर्ज कराया था।

विवेकानंद आंध्र प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री वाई.एस.राजशेखर रेड्डी के छोटे भाई थे। उनके परिवार में उनकी पत्नी व एक बेटी है।

पूर्व सांसद स्नान घर में खून से लथपथ पाए गए। निजी सहायक ने कहा कि उन्हें सिर में चोट आई थी। वह अपने घर में अकेले थे।

यह भी पढ़ें:

वाईएस विवेकानंद रेड्डी की मौत पर पुलिस थाने में शिकायत दर्ज, सिर पाये गये जख्म

उनके शव का सरकारी अस्पताल में पोस्टमार्टम कराया गया है। जिसके बाद इस बात की पुष्टि हुई है कि उनकी हत्या की गई थी।

इससे पहले वाईएसआर कांग्रेस के नेताओं ने उनके निधन के कारणों पर संदेह जताया और गहन जांच की मांग की। दावा किया जा रहा है कि गुरुवार तक विवेकानंद अच्छे थे और उन्होंने चुनाव प्रचार में भाग भी लिया था। ऐसे में दिल का दौरा पड़ने की कोई गुंजाईश नहीं है।

सांसद विजय साई रेड्डी ने कहा कि पार्टी ने निष्पक्ष जांच की मांग की है। विवेकानंद रेड्डी कडपा लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र से कांग्रेस पार्टी के टिकट पर 1999 व 2004 में सांसद निर्वाचित हुए थे। वह आंध्र प्रदेश विधानसभा के लिए दो बार (1989, 1994) पुलिवेंदुला से निर्वाचित हुए थे। विवेकानंद आंध्र प्रदेश विधानसभा परिषद के लिए 2009 में निर्वाचित हुए और किरण कुमार रेड्डी सरकार में कृषि मंत्री रहे थे।