TDP सरकार और आईटी ग्रिड्स कंपनी की साजिश का पर्दाफाश

डिजाइन फोटो  - Sakshi Samachar

हैदराबाद : आंध्र प्रदेश के लोगों का डाटा चुराने वाली आईटी ग्रिड्स कंपनी और टीडीपी सरकार की साजिश का पर्दाफाश हो गया है। तेलुगु देशम पार्टी की साइबर साजिस का हैदराबाद पुलिस ने भंडाफोड़ कर दिया है। हैदराबाद पुलिस ने नौकरी के लिए हैदराबाद पहुंचे टीडीपी विरोधी मतदाताओं के वोट हटाने से संबंधित सबूत भी पेश किए।

हैदराबाद के पुलिस आयुक्त अंजनी कुमार ने आज यहां आयोजित एक संवाददाता सम्मेलन में बताया कि गुप्त रखे जाने वाली सूचना आईडी ग्रिड्स कंपनी के सर्वर में मौजूद है। आईटी ग्रिड्स के जरिए इस सूचना का इस्तेामल टीडीपी की सेवा मित्र ऐप कर रही है। उन्होंने कहा कि इस पूरे प्रकारण में एक महत्वपूर्ण व्यक्ति है और वह कोड भाषा का प्रयोग कर रहा है और हम जल्द ही उस भाषा को डिकोड करेंगे। उन्होंने कहा कि कोड भाषा का प्रयोग करने वाला व्यक्ति कौन है, जल्द ही इसका खुलासा कर दिया जाएगा।

पुलिस आयुक्त अंजनी कुमार मीडियो को संबोधित करते हुए 

पुलिस आयुक्त ने बताया कि आंध्र प्रदेश में सेवा मित्र ऐप के जरिए सर्वे किया जा रहा है और इस काम के लिए आईटी ग्रिड्स इंडिया कंपनी अनेक सर्वेयरों को नियुक्त कर चुकी है। सर्वे में मतदाता किसका समर्थन कर रहे हैं, इसकी जानकारी हासिल की गई। सर्वेयरों के प्रश्नों के जरिए एकत्रित सूचना टीडीपी के बूथलेवल अधिकारियों तक पहुंचेगी।

सेवा मित्र वेबसाइट में बूथ कन्विनर और डैश बोर्ड आदि हैं। सर्वे में कई प्रश्न हैं और किस पार्टी को कितना रेटिंग देंगे, इस सर्वे के जरिए जान रहे हैं। व्यक्तिगत सूचना जैसे आधार, वोटर आईडी की जानकारी जुटाई जा रही है। इसी प्रश्नावली में चुनावी रुझान पर भी सर्वे करने के साथ फोन पर यह भी जानकारी जुटा रहे हैं कि वोटर किस पार्टी को वोट देने वाले हैं। डाटा चोरी और मतदाता सूची से वोट लापता होने को लेकर शिकायत करने वाले दो लोग हैदराबाद में रह रहे हैं। इसीलिए हमने मामला दर्ज कर जांच शुरू की है।

इसे भी पढ़ें :

राज्यपाल से मिलकर वाईएस जगन ने सौंपा चंद्रबाबू के साइबर क्राइम का चिट्टा

KCR सरकार का फैसला, अब SIT करेगी डाटो चोरी मामले की जांच

इस शिकायत पर आईटी ग्रिड्स कंपनी के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 420, 467, 468,471,120 बी के तहत मामले दर्ज किए गये हैंष। साथ ही शिकायकर्ताओं का बयान दर्ज किया गया है।

चित्तूर जिला निवासी वेणुगोपाल रेड्डी हैदराबाद में रह रहे हैं, लेकिन आंध्र प्रदेश में मतदाता सूची से उनका नाम गायब है, लेकिन उनसे जुड़ी जानकारी ऑनलाइन वेरीफिकेशन में नहीं आ रहा है। दशरथ रामीरेड्डी की शिकायत में 2018 के चुनाव में जार्जिया राज्य में 3 हजार अल्पसंख्यकों के वोट हटा दिए गए हैं। उन्होंने बताया कि साइबराबाद पुलिस आईटी ग्रिड्स कंपनी के खिलाफ जांच कर रही है।

Advertisement
Back to Top