अमरावती : तेलुगु देशम पार्टी (टीडीपी) को छोड़कर आंध्र प्रदेश के सभी राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों ने केंद्रीय निर्वाचन आयुक्त सुनील अरोड़ा से भेंट की। इस भेंट के दौरान प्रदेश में सरकार के सहयोग से बड़े पैमान पर वोटर्स की सूची में धांधलियां किये जाने की लिखित शिकायत की है।

सुनील आरोड़ा ने सोमवार को विजयवाडा के नोवोटल होटल में राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों से अलग-अलग मिले। इस अवसर पर प्रदेश के मुख्य निर्वाचन अधिकारी गोपाल कृष्ण द्विवेदी, केंद्रीय चुनाव अधिकारी अशोक लवासा, उमेश सिन्हा, संदीप सक्सेना, संदीप जैन, दिलीप शर्मा, एसके रुडोल, शाफली शरण और अन्य उपस्थित थे। इसके बाद राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों ने मीडियो को इसकी जानकारी दी।

इसे भी पढ़ें:

वाईएस जगन ने अनंतपुर में तटस्थों से की मुलाकात, दिया यह भरोसा

मेरा संघर्ष राक्षसों और धोखेबाजों के खिलाफ, ‘समर शंखारावम’ में YS जगन मोहन की हुंकार

भेंट के बाद वाईएसआर कांग्रेस पार्टी के प्रतिनिधि कोलुसु पार्थसारथी ने कहा कि आने वाले चुनाव के चलते टीडीपी के नेता सरकारी तंत्र का दुरुपयोग कर रही है। उन्होंने बताया कि प्रदेश में 3.69 करोड़ वोटर्स हैं। इसमें 59 लाख से अधिक वोट्स बोगस हैं। इनमें 20 लाख तेलंगाना और आंध्र प्रदेश में हैं। इतना नहीं 39 लाख वोट्स प्रदेश के विभिन्न निर्वाचन क्षेत्रों में दर्ज हैं। इस घटना की सबूतों के साथ अधिकारियों के पास इसकी शिकायत की है। मगर सत्तापक्ष के नेताओं ने उसी सूची को रखने का अधिकारियों पर दबाव डाला है। मतदाता सूची को अधिकारियों ने तैयार की है, मगर इसे आंगनवाड़ी टीचर्स पर थोपा जा रहा है।

उन्होंने कहा कि सरकार ने इस घटना पर किसी प्रकार की कार्रवाई नहीं की है। हमें विश्वास है कि केंद्रीय निर्वाचन आयोग बोगस वोटर्स की घटना पर जांच करेगी। पार्थसारथी ने मांग की है कि अगस्त माह से जितने लोगों को स्थानांतरित किया गया है उसकी भी समीक्षा की जाए।

सीपीएम प्रदेश कार्यकारी सदस्य वाई वेंकटेश्वर राव ने बताया कि तेलंगाना में जिस तरह वोट्स की धांधलियां हुई है, वैसी धांधलियां एपी में न हो इसके लिए आवश्यक कदम उठाने का निर्वाचन आयुक्त से आग्रह किया है। उन्होंने बताया कि आईडी कार्ड है मगर मतदाता सूची में वोटर्स का नाम नहीं है।

कांग्रेस लीगल सेल के चेयरमैन सुंदर राम शर्मा ने कहा कि पार्टी की घोषणापत्र में दिये गये आश्वासनों की अमलवारी करने के लिए आवश्यक कदम उठाने का निर्वाचन आयुक्त से आग्रह किया है।

सीपीआई पूर्व एमएलसी विल्सन ने कहा कि सरकारी पैसों से वोटों को खरीदी करने की प्रथा शुरू हुई है। इतना ही नहीं चुनाव से पहले पेंशन में बढ़ोत्तरी और बैंकों के जरिए चेकों का वितरण किये जाने की जानकारी निर्वाचन आयुक्त को दिया है।

बीजेपी लीगल सेल कन्वीनर जे. रंगाराजू ने बताया कि ड्वाक्रा ग्रुप सदस्यों को दिये जा रहे पोस्ट डेटेड चेक्स पर आपत्ति व्यक्त की है। पोस्ट डेटेड चेक्स को लंबित रखने का आग्रह निर्वाचन आयुक्त से किया है। साथ ही अधिकारियों के स्थानांतरण किये जाने के बारे में भी निर्वाचन आयुक्त को दी है।