हैदराबाद : वित्तीय लेन-देन मामले में हत्या के शिकार हुए जयराम के मामले में राकेश रेडी मुख्य आरोपी होने का पता चला है। इस खुलासे के बाद कुतबुल्लापुर में सनसनी फैल गई है। हमेशा से विवादास्पदों में रह चुके राकेश रेड्डी के खिलाफ कुकटपल्ली और जीडि़मेटला पुलिस थाने में इससे पहले अनेक मामले दर्ज हैं।

बताया जा रहा है कि राकेश रेड्डी तेलुगू देशम पार्टी नेताओं के साथ घूमते-फिरते हुए चंद्रबाबू नायुडू और उनके बेट लोकेश का नाम बता कर हैदराबाद में अनेक सेटेलमेंट को अंजाम दिया। इतना नहीं हाल ही में संपन्न तेलंगाना विधानसभा चुनाव में भी वह कांग्रेस और तेलुगू देशम पार्टी के नेताओं को टिकट दिलाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। इसी क्रम में चुनाव प्रचार के दौरान भी कुतबुल्लापुर में आयोजित जनसभा को चंद्रबाबू नायडू ने राकेश रेड्डी की जमकर तारीफ की थी।

इसे भी पढ़ें:

जयराम की मौत का मामला ले रहा है नया मोड़, पुलिस थाने से शिखा की कार नदारद

राकेश रेड्डी ने कबूली हत्या की बात, इसलिए अपहरण करके कर दिया जयराम का मर्डर!

दूसरी ओर साल 2017 फरवरी में ने राकेश रेड्डी के माता-पिता पद्मा और श्रीनिवास रेड्डी ने उसके दोस्त राजेंद्र रेड्डी को फोन करके बताया था कि कुछ समय से उनका बेटा घर नहीं आ रहा है। राजेंद्र रेड्डी ने यह बात राकेश रेड्डी को बताई। यह सुनकर उसी दिन रात को वह घर गया और माता-पिता के साथ बुरी तरह से गाली गलौज की। साथ ही माता-पिता को जान से मारने की धमकी दी। राकेश रेड्डी के माता पिता ने बेटे की धमकी की शिकायत जीडिमेट्ला थाने में की। दर्ज मामले का नंबर 225 2017 है।

इसी क्रम में राकेश रेड्डी ने पिछले दिनों कूकटपल्ली में उद्योगपतियों को डरा धमका कर पैसे वसूल किए। चिंतल निवासी चोडवरम महेश कुमार के साथ मिलकर कुतबुल्लापुर विधायक विवेकानंद और कूकटपल्ली विधायक माधवरम कृष्णा राव के नाम बता कर उसने 6 उद्योगपतियों, ग्रीन बावर्ची होटल के मालिक और एक कपड़े की दुकान के मालिक से 12.55 लाख रुपये वसूल किये।

इसी तरह विधायक माधवरम कृष्णा राव का समर्थक बताते हुए उसने भाग्य नगर कॉलोनी के ग्रीन बावर्ची रेस्टोरेंट के मालिक को 30 हजार रुपये देने की धमकी दी। इसके चलते रेस्टारेंट के करीबी रिश्तेदार भास्कर राव ने इस घटना के बारे में विधायक कृष्णा राव को फोन करके बताया। विधायक के सुझाव पर राकेश रेड्डी के खिलाफ कुकटपल्ली पुलिस थाने में शिकायत दर्ज किया गया। तब पुलिस ने इस मामले में राकेश रेड्डी को गिरफ्तार करके न्यायिक हिरासत में भेज दिया था।