चेन्नई : चक्रवात गाजा वर्तमान में बंगाल की खाड़ी में केंद्रित है। गाजा के कमजोर पड़ने व गुरुवार दोपहर से पहले पम्बन व कुड्डालोर के बीच तमिलनाडु तट को पार करने की संभावना है। मौसम विभाग ने मंगलवार को यह जानकारी दी।

विभाग ने कहा कि चक्रवात गाजा के कमजोर होने से पहले बुधवार की सुबह से तमिलनाडु-दक्षिण आंध्र प्रदेश के तटीय इलाकों में हालात बिगड़ सकते हैं और रात में समुद्र में ऊंची लहरे उठने की उम्मीद है।मछली पकड़ने गए मछुआरों को जल्द लौटने की सलाह दी गई है।

भारतीय मौसम विभाग ने अपनी विज्ञप्ति में कहा कि गाजा बीते छह घंटों में पांच किमीप्रति घंटे की रफ्तार से पश्चिम की तरफ बढ़ रहा है। चक्रवाती तूफान गाजा सुबह करीब 5.30 बजे यहां से करीब 750 किमी पूर्व में व नागापट्टनम से 840 किमी पूर्व-उत्तरपूर्व में केंद्रित था। इसके अगले 24 घंटे के दौरान बुधवार तक गंभीर चक्रवाती तूफान में बदलने की संभावना है और तूफान की तीव्रता गुरुवार तक बनी रह सकती है।

इसे भी पढ़ें :

आंध्र प्रदेश में चक्रवात और भारी बारिश की आशंका

आईएमडी ने कहा, "इसके पश्चिम-दक्षिण-पश्चिम तरफ बढ़ने की ज्यादा संभावना है।"विज्ञप्ति में 13-15 नवंबर के दौरान उत्तर तमिलनाडु व पुडुचेरी व इससे लगे दक्षिण तटीय आंध्र और रायलसीमा में भी कुछ जगहों पर बारिश और जगह-जगह बौछार हो सकती है। प्रकाशम, नेल्लोर, चित्तूर तथा कड़पा जिले में तूफान के असर से विस्तृत बारिश हो सकती है।

तूफान के प्रभाव से दक्षिण आंध्र के तटीय क्षेत्र में प्रति घंटे 55 से 65 किलो मीटर की रफ्तार से हवाएं चलेंगी। तूफान के देखते हुए मछलीपट्टणम, कृष्णपटनम, निजामपटनम, विशाखापट्टणम, काकीनाडा, गंगावरम पोर्ट में दूसरे नंबर की चेतावनी जारी की जा चुकी है।