तेलुगु राज्यों में शारदा शरन्नवरात्रि को लेकर श्रद्धालुओं में उत्साह, मंदिरों में जबरदस्त भीड़

मंदिरों में भक्त - Sakshi Samachar

हैदराबाद/अमरावती : शारदा शरन्नवरात्रि उत्सव (दशहरा) उत्सव के चलते दोनों तेलुगु राज्यों के मंदिरों में भक्तों की लंबी-लंबी कतारे हैं। भक्तों की बढ़ती भीड़ के चलते प्रशासन ने व्यापक इंतजाम किये हैं। भक्तों से लगभग सभी मंदिरें खचाखच भरे हैं।

इसी क्रम में विजयवाडा के इंद्रकिलाद्री में दशहरा उत्सव का आज आखिर दिन है। इसके चलते सुबह 3 बजे से भक्तों का तांता लगा हुआ है। देवी माता रात 11 बजे तक राजराजेश्वरी देवी के अवतार में भक्तों को दर्शन देगी। भक्तों की बढ़ती भीड़ को देखकर प्रबंधकों ने 100 और 300 रुपये टिकटों की बिक्री रोक दी है। दूसरी ओर भक्तों की भीड़ को देखते पुलिस ने मंदिर परिसर पर यातायात पर प्रतिबंध लगाया है।

ये भी पढ़ें:

दशानन का दूसरा पहलू : कहीं जमाई, तो कहीं आराध्य भी है रावण

Dussehra 2018 : ‘रावण दहन’ लाएगा घर में सुख-समृधि, बस इस बात का रखें ख्याल

तेलंगाना के कोंडागट्टु आंजनेय स्वामी मंदिर में दशहरा के चलते भक्तों की भीड़ काफी बढ़ गई है। अलस सुबह से भक्त आंजनेय स्वामी के दर्शन कर रहे हैं। इस अवसर पर भक्त अपने वाहनों की पूजा कराने के लिए कतारों में खड़े हैं। पुलिस ने भक्तों की भीड़ को देखते हुए यातायात प्रतिबंध लगाया है।

वरंगल के भद्रकाली मंदिर में दशहरा उत्सव उत्साह के साथ जारी है। प्रबंधकों ने भद्रकाली मंदिर को भव्य रूप से सजाया है। माता के दर्शन के लिए भक्तों की लंबी कतारे लगी हुई है। भक्तों की सुविधा के लिए व्यापक इंतजाम किया गया है।

इसी तरह धर्मपूरी लक्ष्मी नरसिम्हा स्वामी मंदिर में महा शतचंडीयज्ञ का आयोजन किया गया। अष्टदश शक्तिपीठ में जोगुलंबा माता के मंदिर में नवरात्रि उत्सव भव्य रूप से जारी है। वेमुलवाडा के श्रीराजराजेश्वरी स्वामी मंदिर में भी देवीशरन्नरात्रि उत्सव भव्य रूप से जारी है। यहां पर माता को सिद्दिदा (महालक्ष्मी) के अलंकार में सजाया गया है।

बासर स्थित सरस्वती मंदिर में दशहरा उत्सव भव्य रूप से जारी है। आज सुबह माता का अभिषेक किया गया है। शाम को माता की शोभायात्रा निकाली जाएगी। इसके बाद 'शमी पूजा' होगी।

Advertisement
Back to Top