तिरुमला (आंध्र प्रदेश) : तिरुमला तिरुपति देवस्थानम (टीडीडी) ने 'महासंप्रोक्षण' के संदर्भ में श्री भगवान बालाजी के दर्शन को नौ दिन के लिए बंद किये जाने के फैसले पर पुनर्विचार करने का फैसला लिया है। इसी क्रम में मुख्यमंत्री नारा चंद्रबाबू नायुडू ने महासंप्रोक्षण के दौरान पहले के नियम और परंपरा के अनुसार भक्तों को भगवान बालाजी के दर्शन की सुविधा उपलब्ध कराने के आदेश दिये हैं।

मुख्यमंत्री के आदेश के बाद टीडीडी के कार्यकारी अधिकारी अनिल कुमार सिंघाल ने मंगलवार को मीडिया से कहा कि आगामी 24 जुलाई को टीडीडी बोर्ड की होने वाली बैठक में भक्तों को दर्शन पर फैसला लिया जाएगा।

उन्होंने यह भी कहा कि बैठक में बालाजी के दर्शन के बारे में भक्तों के विचारों को जाना जाएगा। उन्होंने यह भी बताया कि महासंप्रोक्षण के दौरान भक्तों को हर दिन तीन से चार दिन घंटों तक दो चरणों में भक्तों को दर्शन करने की सुविधा उपलब्ध किये जाने पर फैसला लिया जाएगा। साथ ही भक्तों की रद्दी को ध्यान में रखते हुए भी फैसले लिया जाएंगा।

संबंधित खबर :

नौ दिनों तक नहीं मिलेंगे भक्तों को बालाजी के दर्शन, यह है कारण

आपको बता दें कि टीडीपी ने हाल ही में महासंप्रोक्षण के संदर्भ में आगामी 9 से 17 अगस्त तक भगवान बालाजी मंदिर को भक्तों के लिए के दर्शन बंद किये जाने का फैसला लिया है। टीडीडी के इस फैसले पर इधर भक्तों और उधर हिंदू धर्म की संस्थाओं और पीठाधिपतियों ने विरोध व्यक्त किया है।

साथ ही विशाखा शारदा पीठाधिपति स्वरूपानंदेंद्र सरस्वती ने तो मंदिर को बंद करने के पीछे एक षड़यंत्र होने का संदेह भी व्यक्त किया था। इस संदेह को तब बल मिला जब महासंप्रोषण के दौरान सीसीटीवी कैमरे बंद किये जाने की बात कही गई।