नेताओं पर निर्भर न रह पाये इसीलिए CM YS जगन ने ग्राम सचिवालय को लेकर आये : सज्जला

मीडिया से रूबरू होते हुए सज्जला रामकृष्णा रेड्डी - Sakshi Samachar

ताडेपल्ली : सरकार के सलाहकार सज्जला रामकृष्णा रेड्डी ने कहा कि प्रदेश की जनता नेताओं पर निर्भर न रह पाये इसीलिए मुख्यमंत्री वाईएस जगन मोहन रेड्डी ने ग्राम सचिवालय व्यवस्था को लेकर आये हैं। सज्जला रामकृष्णा रेड्डी ने मंगलवार को वाईएसआरसीपी ट्रेड युनियन की प्रदेश कार्यकारिणी की बैठक में मुख्य अतिथि भाषण में यह बात कही।

उन्होंने आगे कहा, "प्रदेश का विकास राजधानी के विकेंद्रीकरण से ही संभव है। रिएल इस्टेट व्यापार के लिए चंद्रबाबू नायडू अमरावती के नाम पर ड्रामा कर रहे हैं।"

सज्जला ने सवाल किया कि क्या गरीब लोग अमरावती में एक गज जमीन खरीदने की हालत में है? हालत ऐसे पैदा हो गये है कि कोई भी कर्मचारी अमरावती में मकान बनवाने के लिए आगे नहीं आ रहे हैं।

इसे भी पढ़ें :

स्पंदना : सीएम जगन ने स्वास्थ्य सेवाओं में सुधार के लिए दिए आदेश

CM YS जगन ने की ‘स्पंदना’ की समीक्षा, दिये यह निर्देश

उन्होंने कहा कि तेलुगु देशम पार्टी के नेताओं ने इनसाइडर ट्रेडिंग को अंजाम दिया है। मगर चंद्रबाबू ने नूजिवीडु में राजधानी बनाने की झूठ प्रचार किया। ताकि उनकी इनसाइडर ट्रेडिंग फले फुले।

सज्जला ने कहा कि सीएम जगन ने विधानसभा में बताया है कि राजधानी के लिए सरकारी जमीन चाहिए। इसका उद्देश्य सरकारी जमीन होती है तो कर्मचारी और गरीबों को कम दामों पर दिया जा सकें। ताकि वो मकान बना पाये।

इससे पहले मुख्यमंत्री वाईएस जगन मोहन रेड्डी ने जिलाधीशों को सुझाव दिया कि वे भूमि अधिग्रहण करते समय वे मानवीय दृष्टिकोण से पेश आये। सीएम जगन ने मंगलवार को ‘स्पंदना’ कार्यक्रम के अंतर्गत जिलाधीश और पुलिस अधीक्षकों के साथ वीडियो कांफ्रेंस के दौरान यह सुझाव दिया।

इस दौरान उन्होंने गरीबों को दिये जाने वाले मकानों के पट्टे, विकास और कल्याणकारी कार्यक्रमों की लागू करने के लिए अधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश भी दिये।

मुख्यमंत्री ने आगे कहा, "गरीबों को दिये जाने वाले मकानों के पट्टे देकर एक अच्छा कार्य कर रहे हैं। इस बात को ध्यान में ध्यान में रखा जाये कि हमें किसी का अभिषाप न लगे। भूमि अधिग्रहण करते समय जिलाधीश मानवीय दृष्टिकोण से सोचते हुए हमें आगे बढ़ना है। हम जिनकी भूमि ले रहे है उन्हें प्रसन्न करने के बाद ही जमीन ले। जरूरत पढ़ें तो एक रुपये ज्यादा देकर भूमि ले।”

Advertisement
Back to Top