AP लोगों पर पड़ा 3 लाख करोड़ रुपये का भार चंद्रबाबू की जेब में गया : सज्जला 

मीडिया से रूबरू होते हुए सज्जला रामकृष्णा रेड्डी - Sakshi Samachar

ताडेपल्ली (आंध्र प्रदेश) : सरकार के सलाहकार सज्जल रामकृष्णा रेड्डी ने आरोप लगाया कि प्रदेश के लोगों पर पड़ा 3 लाख करोड़ रुपये के भार की अधिकतर रकम पूर्व मुख्यमंत्री नारा चंद्रबाबू नायडू की जेब मे चला गया हैं। रामकृष्णा रेड्डी ने शुक्रवार को मीडिया से यह बात कही।

उन्होंने आगे कहा कि एक सप्ताह तक चले आईटी के छापों में चंद्रबाबू नायडू के पीएस के पास ही दो हजार करोड़ मिले हैं। इस घोटाले को देखने पर स्पष्ट होता है कि यह लूट लाखों करोड़ रुपये में हो सकती है। यह एक छोटा सा उदाहरण मात्र है। यदि इस घटना की समग्र जांच की जाये तो लाखों करोड़ों रुपये हो सकती है।

आपको बता दें कि आईटी अधिकारियों ने 6 फरवरी से हैदराबाद, विजयवाड़ा, कडपा, विशाखापट्टण, पूने और 40 अन्य क्षेत्रों में मारे गये। छापे से खुलासा हुआ है कि कुल दो हजार करोड़ रुपये अवैध रूप से विदेश भेजे गये हैं।

सरकार के सलाहकार ने कहा कि वर्तमान हालत को देखने से स्पष्ट होता है कि चंद्रबाबू नायडू का अंतर्राष्ट्रीय अपराधियों से संबंध है। उन्होंने यह भी कहा कि आईटी छापे पर अब तक टीडीपी के एक नेता भी मुंह नहीं खोला है। नेताओं ने सवाल किया कि जन सेना पार्टी के अध्यक्ष पवन कल्याण को आईटी छापे के बारे में अब तक मुंह क्यों नहीं खोला है?

प्रचार रथ

इससे पहले सज्जला रामकृष्णा रेड्डी ने राजधानी के विकेंद्रीकरण और प्रदेश के सर्वांगीण विकास के लिए नार्थ अमेरिका के विशेष प्रतिनिधि रत्नाकर के नेतृत्व में प्रचार रथ को हरी झंडी दिखाई।

इस अवसर पर उन्होंने कहा कि प्रदेश के सर्वांगीण विकास के लिए राजधानी के विकेंद्रीकरण बहुत जरूरी है। प्रदेश के सभी क्षेत्रों के लोग मुख्यमंत्री वाईएस जगन के राजधानी के विकेंद्रीकरण फैसले का स्वागत कर रहे हैं। सभी क्षेत्रों का विकास ही सरकार का लक्ष्य है। इसके लिए लोगों में प्रचार रथ के जरिए जागरुक कार्यक्रम चलाये जा रहे हैं। इसके लिए रत्नाकर द्वारा किया जा रहा प्रचार कार्यक्रम प्रशंसनीय है। हम सब सभी क्षेत्रों का विकास चाहते हैं। मगर चंद्रबाबू विकेंद्रीकरण का विरोध कर रहे हैं।

बोत्सा सत्यनारायण व अंबाटी रामबाबू

मीडिया से रूबरू होते हुए बोत्सा सत्यनारायण

इसी क्रम में मंत्री बोत्सा सत्यनारायण, अंबाटी रामबाबू और अन्य नेताओं ने भी आईटी छापे पर चंद्रबाबू नायडू और उनके बेटे लोकेश को विवरण देना चाहिए। नेताओं ने कहा कि लोगों को यह सोचना चाहिए कि चंद्रहबाबू के पीए के पास ही दो हजार करोड़ मिले है तो इससे अंदाजा लगाया जा सकता है यह भ्रष्टाचार किस हद तक पार कर गया होगा।

उन्होंने कहा कि टीडीपी के नेताओं ने प्रदेश को पूरी तरह से लूट लिया है। अब चंद्रबाबू का राजनीतिक अंत हुआ है। आईटी अधिकारियों ने छापे के दौरान पाया कि चंद्रबाबू के पीएस 2 हजार करोड़ रुपये भंडाफोड़ हुआ है। इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि चंद्रबाबू के शासनकाल में कितना भ्रष्टाचार हुआ है।

Advertisement
Back to Top