विशाखापट्टणम : विशाखापत्तनम शहरी विकास प्राधिकरण (वुडा) के पूर्व चेयरमैन और तेलुगु देशम पार्टी के पूर्व विधायक एसए रहमान ने सवाल किया कि अमरावती के समर्थन में पूरे प्रदेश का दौरा करने के लिए निकले विपक्ष के नेता चंद्रबाबू नायडू अब दौरा क्यों नहीं कर रहे हैं? उन्होंने चुटकी लेते हुए कहा कि चंद्रबाबू नायडू ने सनराइज स्टेट कहा था, अब मुझे समझ में आया कि सन का मतलब बेटा होता है। रहमान ने मंगलवार को मीडिया से यह बात कही।

वुडा के पूर्व चेयरमैन ने आगे कहा, "चंद्रबाबू को सब कुछ मालूम है। मगर किसी भी बात पर कायम नहीं रहते हैं । उनके मन में एक बात रहती है मगर बोलते कुछ और है। चंद्रबाबू सवाल कर रहे है कि विशाखा राजधानी की किसने मांग की थी। अब चंद्रबाबू यह बताये कि अमरावती राजधानी बनाने के बारे में आपसे किसने पूछा है?

रहमान ने कहा, “विशाखा राजधानी की मांग साल 1953 में ही प्रस्ताव पारित किया गया था। चंद्रबाबू ने सोच लिया कि यह बात किसी को मालूम नहीं है। क्या चंद्रबाबू उत्तरांध्रा में आकर विशाखा राजधानी नहीं चाहिए कि बात कह सकते हैं? यू टर्न लेने वाले चंद्रबाबू ने मोदी के खिलाफ विष प्रचार करके प्रदेश कोमिलने वाली निधि को नहीं मिलने दिया है।"

इसे भी पढ़ेें :

इंडिया टूडे के सर्वेक्षण में YS जगन मोहन रेड्डी को मिला ‘बेस्ट परफॉर्मिंग सीएम’ का स्थान

चंद्रबाबू नायडू को टीडीपी के सदस्यों ने दिया झटका, महत्वपूर्ण बैठक से रहे गायब