अमरावती : आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री वाईएस जगन मोहन रेड्डी ने कहा कि आर्थिक रूप से वर्गों पिछड़े वर के बच्चों को गुणवत्तापरक शिक्षा उपलब्ध कराना ही सरकार का मुख्य उद्देश्य है। बच्चों के लिए सबसे बड़ा उपहार शिक्षा है। सरकार का यह एक क्रांतिकारी कदम है। शिक्षा व्यवस्था में कुछ बदलाव कर उन्नत किया जा रहा है।

आंध्र प्रदेश विधानसभा के विशेष सत्र के दौरान सीएम जगन ने 'अम्मा वोडी' योजना पर विस्तृत जानकारी दी। उन्होंने कहा कि देश के अन्य किसी राज्य में इस तरह की आदर्श योजना नहीं है। इस योजना के कारगर रूप से अमल में लाने पर लगभग 82 लाख बच्चों का भविष्य उज्वल होगा। मुख्यमंत्री जगन ने कहा कि पदयात्रा के समापन की तारीख यानी 9 जनवरी को इस आदर्श योजना का शुभारंभ किया गया।

मुख्यमंत्री जगन मोहन रेड्डी ने कहा कि स्कूल के छात्रों के कल्याण के लिए नाडू-नेडू कार्यक्रम का आयोजन किया गया है। कार्यक्रम के अंतर्गत 45 हजार से भी अधिक सरकारी स्कूलों में कुछ बदलाव करना है। स्कूलों में छात्रों को मौलिक सुविधाएं उपलब्ध कराई जाएंगी। स्कूलों की रूपरेखा बदली जाएगी।

इसे भी पढ़ें :

महात्मा गांधी के आदर्शों पर चल रहे CM जगन मोहन रेड्डी : विधायक रजनी

आर्थिक पिछड़ों के लिए ‘अम्मा वोडी’ एक कारगर योजना : वल्लभनेनी वंशी

सीएम जगन ने घोषणा की शैक्षणिक वर्ष से हर एक छात्र को एक किट मिलेगा। 1 जून से 36 लाख छात्रों को किट वितरीत किये जाएंगे। इस किट का मूल्य 1350 रूपये हैं। इस किट में एक स्कूल बैग, तीन जोडी यूनिफॉर्म (वस्त्र देंगे और सिलाई की मजूदरी भी देंगे), पाठ्यपुस्तक, नोटबुक्स, बूट, दो जोडी मोजे, एक बेल्ट शामिल रहेंगे। उन्होंने कहा कि फरवरी में वसती दीवेन के अंतर्गत छात्रावासों में छात्रों की मां को दो किश्तों में 20 हजार रुपये दिये जाएंगे।