कर्नूल: कर्नूल के टीडीपी नेता, पूर्व एमएलसी एम सुधाकर बाबू ने पार्टी की सदस्यता से इस्तीफे की घोषणा की है। उन्होंने शनिवार को कर्नूल में अपने कार्यालय में पत्रकारों से बात की। इस बातचीत में उन्होंंने चंद्रबाबू नायडू के बारे में कई बातें ऐसी कही जिनसे उन्होंने पार्टी छोड़ी है।

सुधाकर बाबू ने कहा कि उन्होंने अपने 40 साल के राजनीतिक जीवन में, चंद्रबाबू नायडू जैसा ओछा नेता नहीं देखा है। जो अपने आपको व अपनी पार्टी को बचाने के लिए किसी भी हद तक जा सकता है।

सुधाकर बाबू ने चंद्रबाबू की आलोचना करते हुए कहा कि अपना पद बचाने और जीवन चलाने के लिए जनता के बीच अलगाव पैदा करने से भी वे नहीं चूकते और साथ ही धर्म को लेकर भी लोगों में नफरत फैला रहे हैं।

उन्होंने कहा कि ईसाई आतंकवादी नहीं हैं और चंद्रबाबू का ऐसा कहना बिलकुल गलत है। अपनी राजनीति को चमकाने के लिए ऐसे हथकंडे अपनाना ठीक नहीं है।

सुधाकर बाबू ने कहा कि धर्मों के बीच फूट डालना राजनीति के लिए भी अच्छा नहीं है। इन सब बातों से क्षुब्ध होकर ही उन्होंने टीडीपी पार्टी की सदस्यता से इस्तीफा देने की बात कही।

इसे भी पढ़ें :

टीडीपी को झटका, YSR कांग्रेस में शामिल हुईं अनेक महिला नेता

नेल्लोर में TDP को बड़ा झटका, वरिष्ठ नेता ने दिया इस्तीफा

आंध्र प्रदेश की राजनीति में आजकल साफ देखा जा रहा है कि कई टीडीपी के नेता पार्टी से और नेता चंद्रबाबू से असंतुष्ट है तभी तो हर दूसरे दिन पार्टी से कोई न कोई नेता इस्तीफा देकर दूसरी में पार्टी में शामिल होता है और इस तरह टीडीपी लगातार कमजोर होती जा रही है और इसे उठने तक का मौका नहीं मिल रहा।