विजयवाड़ा : आंध्र प्रदेश सरकार ने आंध्र प्रदेश राज्य सड़क परिवहन निगम (एपीआरटीसी) बस किराया बढ़ाने का फैसला लिया है। सड़क परिवहन मंत्री पेर्नी नानी ने मीडिया को यह जानकारी दी। उन्होंने आगे बताया कि पल्ले वेलुगु और सिटी सर्विस बस का किराया हर किलोमीटर 10 पैसे और अन्य सर्विस पर 20 पैसे बढ़ाने का सरकार ने फैसला लिया है। नुकसान की भरपाई करने के लिए सरकार ने बस किराये में बढ़ोत्तरी करना अनिवार्य हो गया है।

मंत्री ने यह भी बताया कि एपीआरटीसी को सरकार में विलय करने के बिल को इसी विधानसभा सत्र में पेश किया जाएगा। उन्होंने कहा कि पिछली सरकार के गैरजिम्मेदाना रवैया के कारण ही आरटीसी खस्ताहालत हो गई है। इस नुकसान की भरपाई करने के लिए ही किराया बढ़ाना पड़ रहा है।

मंत्री ने बताया कि 6735 करोड़ रुपये आरटीसी बकाया है। आरटीसी की हर साल 1200 करोड़ का नुकसान आ रहा है। साल 2017-19 में पीआरसी बढ़ोत्तरी किये जाने के कारण आरटीसी पर भार पड़ा है। साल 2015 से लिटर पर बढ़ाया गया 20 रुपये का भार आरटीसी पर पड़ रहा है।

मंत्री ने बताया कि आरटीसी को जिंदा रखने के लिए बस किराया में बढ़ोत्तरी करना आवश्यक हो गया है। मुख्यमंत्री वाईएस जगन मोहन रेड्डी ने आरटीसी किराये बढ़ाने के प्रस्ताव को मंजूर दिया है। एक दो दिन में बढ़ाये गये बस किराये के कब से लागू किया जाएगा इसकी घोषणा की जाएगी।

नानी ने बताया कि आरटीसी के विभाजन की प्रक्रिया अब तक पूर्ण नहीं हुई। दो राज्यों की संपत्ति का बंटवारा होना बाकी है। जैसे से विभाजन की प्रक्रिया पूरी होगी आरटीसी को सरकार में विलिय की प्रक्रिया पूरी की जाएगी। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री वाईएस जगन द्वारा दिये गये आश्वासनों के अनुसार कर्मचारियों को सरकार में विलिय गया है। विधानसभा सत्र में इस बारे में कानून ले आने की कोशिश की जाएगी।

मंत्री ने यह भी बताया कि अप्रैल तक एक हजार नये बसों की खरीदी की जाएगी। एपी और तेलंगाना के अंतर्राज्यीय समझौता के अनुसार बस किराये में अधिक अंतर होना चाहिए। इसके कारण भी किराया बढ़ाना आवश्यक हो गया है।