गुंटूर : मुख्यमंत्री वाईएस जगन मोहन रेड्डी ने रोगियों को राहत देने वाली एक और क्रांतिकारी कार्यक्रम का शुभारंभ किया। मुख्यमंत्री ने ‘वाईएसआर रोग्यश्री योजना’ के अंतर्गत चिकित्सा कर चुके रोगियों के लिए आराम के दौरान रकम देने वाली 'वाईएसआर आरोग्यश्री आसरा' योजना का सोमवार को गुंटूर जनरल अस्पताल में शुभारंभ किया। किसी भी रोगियों को आराम के दौरान वित्तीय सहायता प्रदान करने वाली देश में यह पहली योजना है।

योजना के अंतर्गत डॉक्टरों के सुझाव के अनुसार रोगियों को आराम के दौरान हर दिन 225 रुपये या कम से कम हर महिने 5 हजार रुपये दिये जाएंगे।

रोगी को चेक प्रदान करते हुए सीएम वाईएस जगन
रोगी को चेक प्रदान करते हुए सीएम वाईएस जगन

इस योजना के अंतर्गत हर साल 4.5 लाख लोगों को लाभ होगा। इस अवसर पर मुख्यमंत्री वाईएसआर आरोग्यश्री योजना के अंतर्गत चिकित्सा कर चुके रोगियों को चेक भी वितरित किये। 1 दिसंबर से लागू की गई इस योजना को सोमवार को मुख्यमंत्री शुभारंभ किया।

इस योजना का मुख्य आकर्ष यह है कि रोगी के डिचार्ज होते ही 48 घंटे के भीतर पेशंट के खाते में रकम जमा हो जाएगी। इसके के लिए रोगी के पास बैंक खाता नंबर और आधार कार्ड रहना आवश्यक है। इस योजना के कारण सरकार पर लगभग 300 करोड़ रुपये का भार पड़ेगा।

 ‘वाईएसआर आरोग्यश्री आसरा’ का शुभारंभ करते हुए सीएम वाईएस जगन
‘वाईएसआर आरोग्यश्री आसरा’ का शुभारंभ करते हुए सीएम वाईएस जगन

धर्म-इंसानियत और आश्वासन-जाति

इस दौरान मुख्यमंत्री ने कहा कि विपक्षी दल बार बार धर्म और जाति का प्रस्ताव ले आ रहे हैं। मेरा धर्म इंसानियत है। दिये हुए आश्वासनों को लागू करना ही मेरी जाति है। उन्होंने आगे कहा कि 1200 प्रकार की बीमारी के लिए आरोग्यश्री को लागू किया गया है। इसे दो हजार बीमारी तक विस्तारित किया जाएगा।

स्कूल और अस्पताल में भी 'नाडु नेडु'

उन्होंने कहा कि एप्रील तक नये 1060 वाहनों 104 और 108 के लिए खरीदी की जाएगी। 1 जनवरी नये आरोग्यश्री कार्ड जारी किये जाएंगे। हर स्कूल और सरकारी अस्पताल में भी 'नाडु नेडु' को लागू किया जाएगा। सरकारी अस्पतालों की रूप रेखा पूरी तरह से बदल दी जाएगी। सरकारी अस्पतालों में अपोलो अस्पताल की तरह इलाज किया जाएगा। कैंसर रोगियों के सभी प्रकार के इलाज का खर्च सरकार ही वहन करेगी।