विजयवाड़ा : छह महीने में ही वाईएस जगन मोहन रेड्डी आंध्र प्रदेश के एक अच्छे मुख्यमंत्री बने गये हैं। जब वाईएस जगन ने मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी, तब उन्होंने घोषणा की थी कि, "छह महीने के भीतर एक अच्छा मुख्यमंत्री आपके मुंह से कहलाऊंगा।" यह सुनकर सभी आश्चर्य चकित हो गये। क्योंकि तब सरकारी खजाना पूरी तरह से खाली था। हर क्षेत्र में भ्रष्टाचार ही भ्रष्टाचार का बोलबाला था। प्रशासन काबू से बाहर निकल गया था। इस तरह अनेक समस्याओं से आंध्र प्रदेश गुजर रहा था। फिर भी वाईएस जगन मोहन रेड्डी पीछे नहीं हटे। पूरे देश की नजरें आंध्र प्रदेश की ओर लगी थी।

ऐसे समय में वाईएस जगन मोहन रेड्डी पहला हस्ताक्षर कल्याणकारी योजना पर की है। तब से अब तक यह प्रक्रिया जारी है। लगातार कल्याणकारी योजनाओं की प्रक्रिया जारी है। हर वर्ग के लिए महत्वपूर्ण फैसले लिये जा रहे हैं। ऐसे समय में विपक्ष और मीडिया एक होकर सरकार के खिलाफ किया जा रहा दुष्प्रचार भी रहा है। फिर भी इन सबका सामना करते हुए निर्धारित लक्ष्य की वाईएस जगन बढ़ते ही जा रहे हैं।

 वाईएस जगन मोहन रेड्डी (फाइल फोटो)
वाईएस जगन मोहन रेड्डी (फाइल फोटो)

वाईएस जगन ने इन छह महीने में न ही किसी की जात देखी, न ही किसी का धर्म देखा, न ही प्रांत देखा, और न ही पार्टी देखी। उनका कहना है कि मेरा लक्ष्य हर एक योग्य व्यक्ति को सरकारी कल्याणकारी कार्यक्रमों का लभा मिलना चाहिए। आज सरकारी योजनाएं इसी लक्ष्य की ओर बढ़ रहे हैं।

इसे भी पढ़ें :

जानिए, मुख्यमंत्री कार्यालय में कौन-कौन अफसर हुए तैनात, किया गया विभागों का बंटवारा

CM YS के दफ्तर की दीवारों पर टंगे हैं ‘नवरत्नालु’ और चुनावी मैनिफेस्टो, वादों को लेकर गंभीर

विश्लेषकों का मानना है कि दिवंगत मुख्यमंत्री वाईएसआर के शासनकाल में शुरू किये गये योजनाएं बाद में रुक गये थे। इस तरह राह भटक चुके योजनाओं को फिर से लागू करना और सभी को भरोसा दिलाने में वाईएस जगन सफल रहे हैं। इसकी किसी ने कल्पना तक नहीं की थी। इसी क्रम में निर्धारित समय में समस्याओं का निवारण करने के लिए ‘स्पंदना’ कार्यक्रम को आरंभ की गई। आर 'स्पंदना' कार्यक्रम की हर वर्ग के लोग तारीफ के पुल बांध रहे हैं।

सबसे मुख्य यह है कि कम समय में चार लाख से अधिक लोगों को नौकरी देना। इनमें भी नये 1.40 लाख शाश्वत सरकारी नौकरियां उपलब्ध कराना कोई सामन्य बात नहीं है। वालंटीयर व्यवस्था और सचिवालय में कार्य आरंभ हुआ है। साथ ही सभी के वेतन में बढ़ोत्तरी किये जाने से हर क्षेत्र में नया जोश भर गया है।

इसी क्रम में मद्यनिषेध की प्रक्रिया आरंभ हो जाने से महिलाओं में खुशी की लहर दौड़ पड़ी है। रिवर्स टेंडरिंग के जरिए प्रजा धन का सदुपयोग हो रहा है। आलोचना करने वाले भी अब तारीफ करने लगे हैं। इसके अलावा मूलभूत शिक्षा और चिकित्सा क्षेत्र में आमूल परिवर्तन किया जा रहा है।

सरकारी स्कूलों में अंग्रेजी माध्यम को लागू करना सामाजिक परिवर्तन की दिशा ओर बढ़ता हुआ क्रांतिकारी एक कदम है। साथ ही बीसी, एससी, एसटी और अल्पसंख्यकों को मंत्रिमंडल में बड़े पैमाने पर शामिल कर लेना एक रिकॉर्ड बन गया है। इसके अलावा सभी वर्ग की महिलाओं को मनोनित पदों पर 50 फीसदी आरक्षण भी दिया गया है। आने वाले दिनों में यह सब सामाजिक क्रांति के लिए प्रतीक है। विश्वास है आने समय मुख्यमंत्री वाईएस जगन हर क्षेत्र में सफल साबित होंगे।