ताडेपल्ली : तेलुगु अकादमी चेयरमैन नंदमूरि लक्ष्मी पार्वती ने कहा कि मुख्यमंत्री वाईएस जगन मोहन रेड्डी ने पदयात्रा के दौरान दिये गये आश्वासन के अनुसार प्रदेश में असाक्षरता मिटाने और गरीब लोगों को लाखों रुपये की लूट से बचाने के लिए सरकारी स्कूलों में अंग्रेजी माध्यम लागू कर रहे हैं। लक्ष्मी पार्वती ने शुक्रवार को ताडेपल्ली में मीडिया से यह बात कही।

उन्होंने सवाल किया कि तेलुगु के बारे में बोलने लोग अपने बच्चों को अंग्रेजी माध्यम में क्यों पढ़ा रहे हैं? साथ ही कहा, "'टीडीपी के अध्यक्ष चंद्रबाबू नायडू अपने बेटे लोकेश और पोते को अंग्रेजी माध्यम में क्यों पढ़ाये हैं? एबीएन राधाकृष्ण अपने बेटे को तेलुगु मीडियम में क्यों नहीं पढ़ाया है?"

चेयरमैन लक्ष्मी पार्वती ने कहा, "तेलुगु को लेकर हो हल्ला मचाने वाले चंद्रबाबू ने तेलुगु भाषा विकास के लिए क्या किया है। तेलुगु जाति की सम्मान की रक्षा करने वाले दिवंगत मुख्यमंत्री एनटीआर को भारतरत्न पुरस्कार के लिए आवश्यक कदम क्यों नहीं उठाया है? तेलुगु भाषा को प्राचीन दर्जा दिलवाने की कोशिश क्यों नहीं है? एनटीआर की मानस पुत्रिका तेलुगु विश्वविद्यालय को प्रदेश को क्यों लेकर नहीं आये?"

इसे भी पढ़ें :

तेलुगु अकादमी के इस पद पर हुई है YSRCP की महासचिव लक्ष्मी पार्वती की नियुक्ति

लक्ष्मी पार्वती ने आरोप लगाया कि संयुक्त आंध्र प्रदेश में और वर्तमान आंध्र प्रदेश में भी नारायणा और श्री चैतन्या स्कूलों को लाभ पहुंचाने के लिए छह हजार स्कूलों को चंद्रबाबू ने बंद करवाया है। सत्ता में थे तब तक आंध्र प्रदेश स्थापना दिवस नहीं मनाया गया है। इतना नहीं ही पोट्टि श्रीरामुलू के प्रति श्रद्धांजलि भी अर्पित नहीं की गई है। यदि पुनर्जन्म रहता है तो वो (चंद्रबाबू) और वेंकय्या नायडू अमेरिका में जन्म लेने की बात क्या नहीं कही थी? इन बातों से यह स्पष्ट होता है तेलुगु भाषा के प्रति चंद्रबाबू को कितना प्रेम है।

इसे भी पढ़ें :

लक्ष्मी पार्वती ने कहा, सीएम जगन के सफल कार्यों को देख जल-भुन रहे हैं चंद्रबाबू

उन्होंने चुटकी लेते हुए कहा कि ठीक प्रकार से तेलुगु नहीं बोलने वाले और अंग्रेजी माध्यम में पढ़ने वाले लोकेश को अंग्रेजी भी ठीक से बोलना नहीं आता है। लक्ष्मीपार्वती ने कहा कि अंग्रेजी भाषा पर अच्छी पकड़ नहीं होने के कारण अनेक युवक रोजगार के अवसर खो दे रहे हैं। वेंकय्या नायडू हिंदी और अंग्रेजी सीखने के कारण ही आज उच्चपद पर पहुंच गये है।