अमरावती : आंध्र प्रदेश के मंत्री मेकापाटी गौतम रेड्डी ने कहा कि यूएई की कंपनी लुलु ग्रुप संस्था ने वाईएसआरसीपी के सत्तारूढ़ होने से पहले ही बीती सरकार के कार्यकाल के दौरान आंध्र प्रदेश में निवेश करने से इनकार कर दिया था। इसलिए टीडीपी लोगों में अफवाहें फैलाकर उन्हें गुमराह करने का प्रयास कर रही है।

संस्था की ओर से आंध्र प्रदेश सरकार को किसी प्रकार का जवाब नहीं मिला है। बीती टीडीपी की सरकारने इंटरनेट कनेक्शन सेंटर बनाये थे। इसके लिए लुलु संस्था का सहयोग की अपेक्षा की। संस्था को विशाखापटनम में 13.83 एकड़ भूमि उपलब्ध कराने की बात कही गई थी। लेकिन संस्था ने उस समय आंध्र प्रदेश में निवेश करने को लेकर रूचि नहीं दिखाई।

इसे भी पढ़ें :

‘गैरपारंपारिक उर्जा क्षेत्र को लेकर अफवाहें, किसी भी कंपनी का समझौता नहीं हुआ रद्द’

‘ग्राम और वार्ड सचिवालयों से जारी होंगे ये कार्ड, धांधलियों पर लगेगी रोक’

लुलु संस्था ने सिंगल बीड डाला था, वह नियमों के विरुद्ध था और बीती सरकार ने उसे दिया था। सिंगल बीड मिलने और भूमि प्राइम एरिया में होने की वजह से संस्था ने उसे रद्द कर दिया। संस्था को दी जानेवाली भूमि के खिलाफ मामले दर्ज हैं।