विजयवाड़ा : मुख्यमंत्री वाईएस जगन मोहन रेड्डी की सरकार ने वेलिगोंडा परियोजना की रिवर्स टेंडरिंग में बड़ी सफलता हासिल की है। रिवर्स टेंडरिंग के जरिए सरकार को 62.1 करोड़ प्रजा धन की बचत की है। प्रकाशम जिले के वेलिगोंडा परियोजना को गत दिनों में टीडीपी के नेता और सांसद सीएम रमेश की रित्विक संस्था ने इस परियोजना को 697.35 करोड़ रुपये में हासिल की थी।

इसी क्रम में वेलिगोंडा परियोजना के दूसरे टन्नेल कार्य के टेंडर प्रक्रिया में भ्रष्टाचार होने को एक कमेटी ने खुलासा किया। जांच में यह पता चला है कि रित्विक संस्था ने 4.69 फीसदी अधिक दाम में हासिल किया गया है।

इसके चलते सीएम जगन की सरकार ने रिवर्स टेंडरिंग के लिए गया। इसी के अंतर्गत रिवर्स टेंडरिंग में मेघा संस्था ने 491.6 करोड़ में बिड दाखिल कर एल-1 बन गया। 663.13 करोड़ के टेंडर को 7 फीसदी कम दाम में हासिल किया। इसके चलते सरकारी खजाना को 87 करोड़ रुपये का लाभ हुआ है।

इसे भी पढ़ें :

TDP MLA वल्लभनेनी वंशी के खिलाफ दर्ज हुआ यह मामला, पढ़ें खबर

ऐसे क्या हुआ जन सेना MLA वरप्रसाद ने CM YS जगन के फ्लेक्सी का किया दुग्धाभिषेक? पढ़ें खबर

इससे पहले एपी सरकार ने पोलवरम परियोजना के रिवर्स टेंडरिंग में सफलता हासिल की है। इसके साथ ही पोलवरम हेडवर्क्स और जल विद्युत केंद्र के रिवर्स टेंडरिंग के जरिए सरकारी खजाना को 782.8 करोड़ रुपये की बचत हुई है।