विजयवाड़ा : मुख्यमंत्री वाईएस जगन मोहन रेड्डी ने आरोग्यश्री योजना के तहत 1 नवंबर से हैदराबाद, चेन्नई और बेंगलूर स्थित 150 अस्पतालों में सुपर स्पेशालिटी सेवा उपलब्ध कराने का फैसला लिया है। साथ ही चिकित्सा और स्वास्थ्य विभागों में रिक्त पदों की भर्ती प्रक्रिया को जनवरी महीने से आरंभ किये जाने के भी मुख्यमंत्री ने अधिकारिोयों को आदेश दिया है।

वाईएस जगन ने शुक्रवार को स्वास्थ्य और परिवार कल्याण पर समीक्षा की। इस दौरान कंटीवेलुगु और आरोग्यश्री अस्पतालों में विकास कार्यक्रम और माता और शिशु मृत्यु निवारण जैसे अनेक मुद्दों पर समीक्षा की।

इस अवसर पर मुख्यमंत्री वाईएस जगन ने कहा कि आरोग्य आंध्र प्रदेश के लिए छह सूत्री कार्यक्रम के साथ आगे बढ़ना चाहिए। साथ ही मुख्यमंत्री ने विश्व स्वास्थ्य संगठन के सुझाव के अनुसार दवाओं की तैयारी, लोगों के लिए दवाइयां उपलब्ध कराना, ऑपरेशन कर चुके लोगों को आराम के दौरान वित्तीय सहायता, गंभीर बीमारी से प्रभावितों को हर महीने पेंशन, नये 108 और 104 वाहनों की खरीदी और अस्पतालों के विकास के जरिए स्वास्थ्य क्षेत्र को शक्तिशाली बनाने के लिए मार्गदर्शन दिशा निर्देश दिये हैं।

इसे भी पढ़ें :

CM जगन ने किया डॉ YSR नवोदयम योजना का शुभारंभ, MSME का होगा विकास

आंध्र प्रदेश में उगादि तक सभी गरीबों को मकानों के पट्टे : बोत्सा सत्यनारायण

एसी सीएम ने 1 दिसंबर से ऑपरेशन कर चुके रोगियों को ठीक होने तक हर महीने 5 हजार रुपये या हर दिन 225 रुपये देने के आदेश दिये। इसके अलावा गंभीर किडनी बीमारी से पीड़ितों के साथ तलसेमिया, हीमोफिलिया और सिकिलसेल एनीमिया जैसे बीमारी से पीड़तों को 10 हजार रुपये वित्तीय सहायता देने के भी आदेश दिया है। इसी क्रम में पांच हजार की श्रेणी में चार और बीमारियों को शामिल करने का निर्देश दिया है।

उन्होंने मेडिकल कॉलेज में विकास कार्यक्रमों को लेकर प्रणाली तैयार करने के निर्देश दिये। साथ ही अस्पतालों में दवाइयों की कमी नहीं आ पाये इसके लिए भी आवश्यक कदम उठाये। इस बात का ध्यान रहे कि अस्पतालों दवाइयां नहीं होने की शिकायत कभी भी न पाये। हेल्थ सब सेंटर में विकास कार्यक्रम नवंबर महीने से आरंभ किया जाये। आरोग्यश्री में डबल कॉक्लियर इंप्लांट को शामिल किया जाये। 21 दिसंबर से आरोग्यश्री कार्डों का वितरण किया जाये।

इसे भी पढ़ें :

आंध्र प्रदेश में एक और ऐतिहासिक फैसला, पढ़ें खबर

ABN राधाकृष्णा को नहीं मालूम पत्रकारिता की नैतिक मूल्य : पेर्नी नानी

मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को निर्देश दिया कि अस्पतालों में काम करने वाले शानिटेशन वर्कर्सकों के वेतन को 16 हजार रुपये करते हुए आदेश किया जाये। कंटीवेलुगु कार्यक्रम को महाविद्यालों के छात्रों को भी लागू किया जाये। एक महीने के भीतर कॉलेजों के छात्रों की आंखों की जांच की जाये।

वाईएस जगन ने कहा, "लखवा से पीड़ित, दो पैर या बिना हाथ या बिना किसी काम करने योग्य विकलांगों को पांच हजार रुपये पेंशन दिया जाये। 1 जनवरी से इसे लागू किया जाये।" डेंगू और मौसमी बीमारियों को भी इसमें शामिल किया जाये। आदिवासी इलाको में बाइकों के जरिए चिकित्सा सेवा उपलब्ध किया जाये। हर निर्वाचन क्षेत्र में एक प्रस्तूति अस्पताल को स्थापित किया जाये। सभी अस्पतालों का विकास कार्यक्रम दिसबंर 2019 से 2020 तक पूरा किया जाये।

मुख्यमंत्री जगन मोहन रेड्डी ने आदेश दिया है कि सभी राष्ट्रीय राजमार्गों पर स्थापित शराब की दुकानों को पूरी तरह से हटा दिया जाये। सड़क दुर्घटनाओं में यदि कोई घायल व्यक्ति आता है तो बिना पैसों का इंतजाम किये इलाज किया जाये। इसके लिए सरकार ही कुछ राशि जारी करें। इसके बारे में शीघ्र ही रूप रेखा तैयार किया जाये।