विजयवाड़ा : मुख्यमंत्री वाईएस जगन मोहन रेड्डी ने निर्देश दिया कि 'स्पंदना' कार्यक्रम के अंतर्गत मिलने वाले आवेदनों के निवारण के लिए अधिकारी कार्यशाला आयोजित करें। इस पर एक कार्यप्रणाली तैयार कर लें। कार्यशाला में एमआरओ, एमपीडीओ और मुंसीपल कमीशनरों को शामिल किया जाये। मुख्यमंत्री ने मंगलवार को स्पंदना कार्यक्रम पर समीक्षा बैठक की। इस दौरान जिलाधीश और अधिकारियों के साथ वीडियो कांफ्रेंस आयोजित किया गया।

इस अवसर पर वाईएस जगन ने कहा कि स्पंदना के अंतर्गत मिलने वाले आवेदनों पर गंभीरता से विचार किया जाये। क्योंकि लोग अपनी समस्याओं का निवारण होने के उम्मीद से अधिकारियों के पास आते हैं। अधिकारी उनके स्थान पर रहकर सोचें। ऐसा करने पर ही स्पंदना कार्यक्रम की सार्थकता होगा। एमआरओ, एमपीडीओ और मुंसीपल कमीशनर इस पर मानवीय दृष्टि से सोचे।

इसे भी पढ़ें :

कोडेला के निधन पर अफवाहों का बाजार गर्म, जांच में जुटी बंजारा हिल्स पुलिस

AP HC में अयोग्य करार याचिका पर हुई सुनवाई, TDP के इन विधायकों को जारी किया नोटिस

वाईएस जगन मोहन रेड्डी
वाईएस जगन मोहन रेड्डी

वाईएस जगन ने कहा, "मुख्य सचिव के नेतृत्व में आगामी 24 और 27 सितंबर को कार्यशालाओं को आयोजित करें। अक्टूबर में जिलास्तर पर कार्यशाला आयोजित किया जाये। कार्यशाला में जिलाधीश भी भाग लें। नवंबर माह से स्पंदना कार्यक्रम के अंतर्गत मिले आवेदनों पर सरकार गंभीरता से काम करेगी।"

इसे भी पढ़ें :

कोडेला की मौत पर राजनीति न करें TDP के नेता, जांच के बाद सामने आएगी सच्चाई : गडिकोटा

राजकीय सम्मान के साथ होगा कोडेला शिवप्रसाद राव का अंतिम संस्कार, CM जगन ने दिये आदेश