अमरावती : वाईएसआरसीपी के प्रवक्ता और विधायक अंबाति रामबाबू ने कहा कि बाढ़ के पानी में अपना घर डूबता देख नेता प्रतिपक्ष चंद्रबाबू नायडू अपने परिवार के साथ हैदराबाद गये। नागार्जुन सागर के गेट बंद करते ही वापस विजयवाड़ा आ गये।

चंद्रबाबू का रवैया देखने पर ऐसा लगता है कि उन्हें लोगों की नहीं अपनी फिक्र है। बाढ़ पीड़ितों की सहायता करने की बजाय उन्हें उसी हाल में छोड़ नेता प्रतिपक्ष का इस तरह अपनी सुरक्षा के बारे में सोचना क्या एक नेता प्रतिपक्ष लिए योग्य है?

अंबाति रामबाबू ने कहा कि चंद्रबाबू नायडू ने हैदराबाद जाते समय बहाना बनाया कि उनके हाथ में दर्द है और वह इलाज के लिए हैदराबाद जा रहे हैं। हाथ में दर्द हो तो हैदराबाद जाने की क्या जरूरत है। अगर चंद्रबाबू हैदराबाद जाएंगे तो नारा लोकेश कहां गये।

इसे भी पढ़ें :

चंद्रबाबू नायडू को वीआरओ ने दिया नोटिस, बाढ़ प्रभावित मकान छोड़ने का निर्देश

अंबाति ने याद दिलाया कि टीडीपी के कार्यकाल में देविनेनी उमा ने कहा था कि अवैध निर्माणों को ढहा दिया जाएगा, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। उन्होंने सवाल किया कि उनके कार्यकाल में कितने अवैध निर्माण ढहाए गये।