विजयवाड़ा : हथकरघा उद्योग के कल्याण के लिए प्रतिबद्ध होने की बात मंगलगिरी के वाईएसआरसीपी विधायक आल्ला रामकृष्णा रेड्डी ने कही।

उन्होंने अतीत में बुनकरों के लिए वाईएस जगन मोहन रेड्डी द्वारा की गई दीक्षा की बात याद दिलायी। वह सोमवार को विधानसभा में बुनकरों के मुद्दे पर बोल रहे थे।

आरके ने कहा कि राज्य सरकार कृषि क्षेत्र के बाद, सर्वोच्च प्राथमिकता हथकरघा क्षेत्र को ही दे रही है।

केंद्र सरकार ने मेगा क्लस्टर बनाने की घोषणा की है। वहीं टीडीपी के शासनकाल में वे ब्लाक क्लस्टर में परिवर्तित हो गए, इनसे कोई फायदा नहीं हुआ, ब्लाक क्लस्टर से बेहद कम लोगों को ही फायदा होने की बात आरके ने कही।

इसके मद्देनजर संबंधित मंत्री को मेगा क्लस्टर स्थापित करने की आवश्यकता के बारे में बता दिया गया है।

आरके ने आगे कहा कि हथकरघा उद्योग के लिए हजार करोड़ आवंटित करने की बात चंद्रबाबू ने की थी पर अपने शासन में उन्होंने सिर्फ 875.3 करोड़ ही आवंटित किए और बाकी के 473 करोड़ अपने नेताओं पर खर्च किए।

दूसरी ओर मुख्यमंत्री वाईएस जगन मोहन रेड्डी ने अपने पहले ही बजट में 200 करोड़ आवंटित किए और इसीसे पता चलता है कि सरकार को हथकरघा उद्योग की कितनी फिक्र है।

इसे भी पढ़ें :

चिकित्सा सेवाओं को बेहतर बनाने के लिए उचित कदम उठाए जाएंगे - आल्ला नानी

उन्होंने आगे कहा कि चंद्रबाबू शासन के दौरान, आप्को की स्थिति बदतर थी और इसे संभालने की जरूरत थी।

मंत्री मेकपाटी गौतम रेड्डी ने कहा कि मेगा क्लस्टर केंद्र सरकार के अधीन हैं, जिसे केंद्र द्वारा समाप्त कर दिया गया है और ब्लॉक स्तर के समूहों में लाया गया है।

गौतम रेड्डी ने कहा कि आप्को क्षेत्र में पिछले पांच वर्षों में बहुत भ्रष्टाचार हुआ है, और दिवंगत मुख्यमंत्री वाईएस राजशेखर रेड्डी ने जैसे इस क्षेत्र में कार्रवाई की थी अब फिर से वैसा ही सीएम जगन को भी करना पड़ेगा तभी जाकर स्थिति संभलेगी।