अमरावती : आंध्र प्रदेश विधान परिषद में सत्तारूढ़ दल और विपक्ष के बीच नोंकझोंक हुई। मुख्यमंत्री वाईएस जगन मोहन रेड्डी के खिलाफ टीडीपी के एमएलसी नारा लोकेश ने अनुचित टिप्पणी की। सभा में मुख्यमंत्री के खिलाफ की गई टिप्पणी पर मंत्री अनिल कुमार यादव और आदिमुलपु सुरेश ने टिप्पणी का खंडन किया।

विधान परिषद में किसी व्यक्ति के बारे में अनावश्यक टिप्पणी कैसे कर सकते हैं, कहकर आक्रोश व्यक्त किया। अनिल कुमार ने कहा कि लोकेश को मातृभाषा का प्रशिक्षण देने की जरूरत है।

अनिल कुमार यादव ने आरोप लगाया कि कांग्रेस नेता चिदंबरम से मुलाकात कर चंद्रबाबू ने वाईएस जगन मोहन के खिलाफ मामले दर्ज कराये और अपने खिलाफ दर्ज मामले पर स्थगन आदेश लाकर चंद्रबाबू जेल की बजाय बाहर घूम रहे हैं।

अनिल कुमार ने याद दिलाया कि टीडीपी के संस्थापक अध्यक्ष एनटीआर की पीठ में छूरा घोंपकर चंद्रबाबू टीडीपी पर कब्जा कर लिया, लेकिन वाईएस जगन स्वयं पार्टी बनाई और जीत हासिल कर सत्तारूढ़ हुये। उन्होंने दोहराया कि टीडीपी ने कभी अकेले चुनाव नहीं लड़ा है और न ही जीत हासिल की है।

इसे भी पढ़ें :

सीएम जगन ने टीडीपी के सदस्यों को दी सलाह, सदन का समय नष्ट न करें

अनिल कुमार यादव ने चेतावनी भरे शब्दों में कहा कि सीएम जगन मोहन के खिलाफ अनुचित बयान देंगे तो चुप नहीं बैठेंगे।