नई दिल्ली : पूर्व लोकसभा महासचिव पी.डी.टी. आचार्य ने कहा कि तेलंगाना में तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) के साथ 12 कांग्रेस विधायकों का विलय और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के साथ चार तेलुगू देशम पार्टी (टीडीपी) के राज्यसभा सदस्यों का विलय 'अवैध' है क्योंकि उन्होंने कानून का उल्लंघन किया है।

करण थापर को दिए एक साक्षात्कार में आचार्य ने कहा, "हां, तेलंगाना में 12 कांग्रेस विधायकों का टीआरएस के साथ विलय और भाजपा के साथ चार टीडीपी राज्यसभा सांसदों का विलय अवैध है क्योंकि यह कानून के अनुसार नहीं हैं।"

उन्होंने कहा कि तथाकथित विलय 'निश्चित रूप से अवैध' है, जो संविधान की 10वीं अनुसूची के अनुसार नहीं है।

इसे भी पढ़ें :

BJP में शामिल होकर ईमानदार हो जाएंगे TDP के ये भ्रष्टाचारी नेता..?

उन्होंने कहा कि विलय के लिए, एक पार्टी को दूसरे राजनीतिक दल के साथ विलय करना होगा और उसके विधायकों या सांसदों को विलय के लिए सहमत होना होगा।

उन्होंने कहा, "लेकिन इन दो मामलों में मूल दलों का विलय नहीं हुआ है, जबकि उनके विधायकों और सांसदों का विलय हुआ है।"

उन्होंने कहा कि यदि दोनों मूल पार्टी विलय नहीं करती हैं, तो कोई विलय नहीं माना जाएगा।