हैदराबाद : आंध्र प्रदेश एवं तेलंगाना के मुख्यमंत्री वाईएस जगन मोहन रेड्डी और के. चंद्रशेखर राव के बीच सौहार्दपूर्ण रिश्ते से दोनों तेलुगू भाषी राज्यों के बीच विवादास्पद मुद्दों के समाधान की संभावना बढ़ी है। आंध्र प्रदेश सरकार के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि राज्य सरकार ने यहां स्थित भवनों को हाल में तेलंगाना के अपने समकक्ष को सौंपने पर सहमति जतायी है।

वाईएस जगन मोहन रेड्डी व चंद्रशेखर राव
वाईएस जगन मोहन रेड्डी व चंद्रशेखर राव

इसके बाद ऐसी संभावना है कि राज्यपाल ई एस एल नरसिम्हन राज्य विभाजन के कारण उत्पन्न मुद्दों को सुलझाने के लिये 24 जून को दोनों राज्यों के मुख्य सचिवों तथा वरिष्ठ अधिकारियों की बैठक बुलाने वाले हैं।

वाईएस जगन मोहन रेड्डी व चंद्रशेखर राव
वाईएस जगन मोहन रेड्डी व चंद्रशेखर राव

अधिकारी ने पीटीआई-भाषा को बताया, ‘‘राज्यपाल (दोनों राज्यों के साझा राज्यपाल) के साथ बैठक के दौरान राज्य विभाजन की वजह से उत्पन्न नदी जल बंटवारा मुद्दा और कर्मचारियों के आवंटन से लेकर कई मुद्दों पर चर्चा होने की संभावना है। बैठक का आधिकारिक एजेंडा अभी तय नहीं हुआ है। हालांकि, इस दौरान कई मुद्दों के उठने की संभावना है।''

दोनों राज्यों के बीच नदी जल विवाद, तेलंगाना से बिजली का बकाया, अनुसूची नौ एवं दस के तहत सूचीबद्ध सार्वजनिक क्षेत्र के संगठनों और उनके कर्मचारियों का बंटवारा तथा पिछले पांच साल में बिजली कर्मचारियों का बंटवारा जैसे कई मुद्दे शामिल हैं।

ये भी पढ़ें: जो काम चंद्रबाबू नहीं कर पाए, उनको जल्द पूरा करेंगे KCR व जगन मोहन रेड्डी, ये हैं उम्मीदें