नई दिल्ली/विजयवाड़ा : आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री वाईएस जगन मोहन रेड्डी ने शनिवार को पार्टी की संसदीय दल की बैठक में भाग लिया। वाईएस जगन की अध्यक्षता में एपी भवन में एक घंटे से अधिक समय तक बैठक चली।

इस बैठक के दौरान मुख्यमंत्री ने संसद सत्र में अपनाई जाने वाली रणनीति के बारे में सांसदों को दिशा-निर्देश दिए। जिसमें मुख्य रूप से आंध्र प्रदेश को विशेष दर्जा और विभाजन कानून 2005 के अंतर्गत दिये गये आश्वासनों की अमलावरी शामिल है।

इसके अलावा प्रदेश में सिंचाई जल और पेयजल समस्याओं से निपटने के लिए किस तरह से निधियां हासिल की जानी है इस बारे में भी मार्गदर्शन किया। इसी क्रम में सरकार द्वारा प्रस्तावित योजनाओं के लिए वित्तीय सहायता और प्रदेश को वित्तिय संकट से उभरने के लिए तुरंत मदद करने के लिए संसद में अपना पक्ष रखने के बारे में सांसदों को समझाया है।

इसे भी पढ़ें :

दिल्ली पहुंचे  आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री वाईएस जगन मोहन रेड्डी

AP CM YS जगन ने गृहमंत्री अमित शाह से मिलकर किया यह आग्रह

गौरतलब है कि लोकसभा में वाईएसआरसीपी के 22 और राज्यसभा में दो सदस्य हैं। पिछले पांच साल में चंद्राबाबू ने आंध्र प्रदेश को तीन लाख करोड़ रुपये के कर्ज में डूबो दिया है। जब आंध्र प्रदेश का विभाजन हुआ था, तब केवल 70 हजार करोड़ रुपये का कर्ज था।