गुंटूर लोकसभा क्षेत्र की मतगणना में भारी धांधली, YSRCP लड़ेगी अदालती लड़ाई

गल्ला जयदेव और मोदुगुला वेणुगोपाल रेड्डी  - Sakshi Samachar

हैदराबाद : वाईएसआर कांग्रेस पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव व राज्यसभा सदस्य वी विजयसाई रेड्डी ने चुनाव अधिकारियों पर गुंटूर लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र में पोस्टल बैलेटों की गिनती में पक्षपात करने का आरोप लगाया है।

विजयसाई रेड्डी ने आज अपने ट्विटर हैंडल पर लिखा है कि मामूली तकनीकी खराबी का हवाला देकर 9,700 वोटों की गिनती नहीं की गई है। उन्होंने कहा कि चुनाव अधिकारी ने वोटों की गिनती में गड़बड़ी कर 4,200 वोट से टीडीपी उम्मीदवार की जीत की घोषणा की है, लेकिन इसके खिलाफ वाईएसआरसीपी अदालती लड़ाई लड़ेगी।

गौरतलब है कि गुंटूर लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र में 9,700 पोस्टल बैलेट वोट से भरे कवर पर 13-सी नंबर नहीं होने से उन वोटों की गिनती नहीं की गई थी। इस लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र में आने वाले ताड़ीकोंडा, मंगलगिरी, पोन्नूरु, तेनाली, प्रत्तिपाड़ु, उत्तर गुंटूर, दक्षिण गुंटूर विधानसभा सीटों में से दक्षिण गुंटूर को छोड़कर बाकी सभी सीटों पर वाईएसआरसीपी उम्मीदवारों की जीत हुई है।

परंतु लोकसभा सीट पर वाईएसआरसीपी उम्मीदवार मोदुगुला वेणुगोपाल रेड्डी की बजाय टीडीपी उम्मीदवार गल्ला जयदेव की जीत हुई है। गुंटूर से लोकसभा सीट पर वाईएसआर कांग्रेस की टिकट पर चुनाव लड़ने वाले मोदुगुला वेणुगोपाल रेड्डी और मंगलगिरी से निर्वाचित विधायक आल्ला रामकृष्णा रेड्डी ने आरोप लगाया है कि वोटों की गिनती की प्रक्रिया पूरी होने से पहले ही यहां के चुनाव अधिकारियों ने नियमों के विरुद्ध नतीजों की घोषणा की है।

इसे भी पढ़ें :

करारी हार के बाद नारा लोकेश ने कार्यकर्ताओं को दिलाया दिलासा

विजयसाई रेड्डी ने कहा कि गुंटूर के साथ श्रीकाकुलम लोकसभा सीट पर भी चुनाव अधिकारियों के पक्षपाती रवैये के कारण वाईएसआरसीपी के उम्मीदवार को हार का सामना करना पड़ा है। उन्होंने कहा कि इन दोनों सीटों पर वाईएसआरसीपी अदालती लड़ाई लड़ेगी।

श्रीकाकुलम के वर्तमान सांसद किंजरपु राममोहन नायडू को केवल 6,658 वोटों से वाईएसआरसीपी के उम्मीदवार दुव्वाड़ा श्रीनिवास पर जीत हासिल हुई है। वास्तव में इस निर्वाचन क्षेत्र के दायरे में इच्छापुरम और टेक्कली विधानसभा सीटों पर टीडीपी उम्मीदवारों की जीत हुई है और बाकी सभी सीटों पर वाईएसआरसीपी की जीत हुई है।

Advertisement
Back to Top